असरार उल हक़ "मजाज़"

इज़्न-ए-ख़िराम लेते हुए आसमाँ से हम

इज़्न-ए-ख़िराम लेते हुए आसमाँ से हम,
हट कर चले हैं रहगुज़र-ए-कारवाँ से हम

क्या पूछते हो झूमते आए कहाँ से हम
पी कर उठे हैं ख़ुम-कदा-ए-आसमाँ से हम

क्यूँकर हुआ है फ़ाश ज़माने पे क्या कहें
वो राज़-ए-दिल जो कह न सके राज़-दाँ से हम

हमदम यही है रहगुज़र-ए-यार-ए-ख़ुश-ख़िराम
गुज़रे हैं लाख बार इसी कहकशाँ से हम

क्या क्या हुआ है हम से जुनूँ में न पूछिए
उलझे कभी ज़मीं से कभी आसमाँ से हम

हर नर्गिस-ए-जमील ने मख़मूर कर दिया
पी कर उठे शराब हर इक बोस्ताँ से हम

ठुकरा दिए हैं अक़्ल ओ ख़िरद के सनम-कदे
घबरा चुके थे कशमकश-ए-इम्तिहाँ से हम

देखेंगे हम भी कौन है सज्दा तराज़-ए-शौक़
ले सर उठा रहे हैं तिरे आस्ताँ से हम

असरार उल हक़ “मजाज़”

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2017 | Bharat Duniya | Managed By Lokbharat Group

To Top