21 जदयू नेता निकालने वाले नीतीश कुमार क्या शरद यादव को निकाल पायेंगे?

पटना: जदयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार भाजपा के साथ चले तो गए हैं लेकिन उन्होंने कहीं ना कहीं पार्टी के दूसरे वरिष्ट नेताओं की इस फ़ैसले में राय नहीं ली| इसी का नतीजा है कि उन्हें जदयू के भीतर ही बड़ी बग़ावत देखने को मिल रही है| इस बग़ावत के जवाब में नीतीश ने 21 नेताओं को पार्टी से निकाल कर सन्देश देने की तो कोशिश की है लेकिन अभी भी उनमें हिम्मत नहीं है कि वो शरद यादव को हटा दें|

जैसा कि हम पहले भी बता चुके हैं कि नीतीश कुमार के लिए ये मुश्किल है कि वो यादव को जदयू से निकाल दें| असल में शरद यादव को अगर नीतीश कुमार निकाल देते हैं तो उनकी राज्यसभा सदस्यता बरक़रार रह जायेगी जबकि यादव अगर ख़ुद इस्तीफ़ा दें तो उन्हें राज्यसभा सांसद के पद को भी छोड़ना पड़ेगा| ऐसी अवस्था में शरद यादव चाहते हैं कि नीतीश उन पर कार्यवाही कर दें लेकिन नीतीश जानते हैं कि इससे उनको राज्यसभा सीट का नुक़सान होगा| नीतीश ने लेकिन यादव को आज राज्यसभा में जदयू नेता के पद से हटा दिया|

तीन ज़िलों के शरद यादव के दौरे से पार्टी में फूट बढ़ रही है और जदयू शरद यादव और नीतीश कुमार में बंटी हुई नज़र आ रही है| शरद यादव कैंप ये दावा कर रहा है कि उनकी जदयू ही असली जदयू है और नीतीश कुमार की जदयू सरकारी जदयू है| जानकारों के मुताबिक़ शरद यादव अगर नयी पार्टी बनाते हैं तो जदयू में कुछ नहीं बचेगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published.