तीन ज़गह पर बीबी को अकेला नही छोड़ना चाहिए ,हज़रत अली ( र.अ.) ने फरमाया …

अस्स्लामालेकुम दोस्तों,उम्मीद करते है आप लोग अच्छे होंगे.हम आपको रोजाना इस्लाम के बारे में पोस्ट करके बताते रहते है.आज हम आपको मियाँ और बीबी के खुसुसी रिश्ते पर आप को जानकारी देंगे.बहुत से गैर मुस्लिम,मुसलमानों पर तनक़ीद करते है कि इस्लाम में औरत का मर्तबा शौहर से बहुत कमतर है.दोस्तों आज जो जानकारी देंगे जा रहे है उससे ऐसे बातें करने वालो का दावा गलत साबित हो जाएगा.

अल्लाह तआला ने बीबी और शौहर के रिश्तो को बेपर्दगी और शरीके हयात वाला बनाया है.यानी बीबी से मर्द की और मर्द से शौहर का हर चीज़ शरीक की जा सकती है.अगर कोई शौहर अपनी बीबी को बिना वजह प्रताड़ित करता है फिर उसका हर सवाब अल्लाह खत्म कर देगा.और जो भी उसने सवाब कमाया है वो उसकी बीबी के हिस्से में चला जाएगा.

तीन ज़गह बीबी को अकेला ना छोड़े
दोस्तों हज़रत अली (र.अ) के समय का वाकिया है.जब एक आदमी उनके पास आकर बोला कि बीबी को क्या मैं किसी और के साथ सफर पर भेज सकता हूँ क्युकि मेरी तबियत सही नही है इसलिए मैं नही जा सकता हूँ.

इस पर हज़रत अली (र.अ.) ने कहाकि हरगिज़ नही.तीन ज़गह बीबी को अकेला नही छोड़ सकते है.1-अगर बीबी बीमार है तो ऐसी सूरत में बीबी के साथ रहकार उसकी खिदमत करना चाहिए.

2-बीबी को सफर में आप अकेले नही भेज सकते है,बीबी अपने सगे भाई के साथ ही सफर कर सकती है.3- हज़रत अली ने बताई कि अगर घरवालो के सामने बीबी की तारीफ का कोई मौक़ा पेश आये तो उसने गवाना नही है.बीबी की तारीफ शौहर के लिए उसकी शिद्दत बड़ा देती है और मियाँ बीबी के बीच मोहब्बत को आगे करती है.

आप को हमारा आर्टिकल कैसा लगा कमेन्ट बॉक्स में हमें अपनी राय ज़रूर दे.दुआओं की दरखास्त है-ख़ुदा हाफ़िज

Leave a Reply

Your email address will not be published.