आम आदमी पार्टी के 5 साल- छोटी पार्टी कह कर किया था ख़ारिज, बड़ी-बड़ी पार्टियों को दी शिकस्त

November 26, 2017 by No Comments

नई दिल्ली: जब अन्ना हज़ारे ने अरविन्द केजरीवाल के साथ मिलकर जन-लोकपाल बिल के लिए आन्दोलन शुरू किया था तो किसी को ये नहीं लगता था कि ये आन्दोलन इतना बड़ा हो जाएगा. एक वक़्त पे जन-लोकपाल के लिए लोगों में ऐसा उत्साह था कि देखते ही बनता था. इसके बाद अरविन्द केजरीवाल ने अपने कई साथियों के साथ मिलकर सक्रिय राजनीति में आने का फ़ैसला किया और 26 नवम्बर 2012 को आम आदमी पार्टी अस्तित्व में आयी.आज इस बात को पांच साल हो गए.

जब आम आदमी पार्टी बनी थी तो अधिकतर लोगों ने इसे एक छोटी-मोटी पार्टी कह कर ख़ारिज किया था लेकिन जब दिल्ली में विधानसभा चुनाव हुए तो पार्टी ने सबको चौंका दिया. इतना ही नहीं बाद में आम आदमी पार्टी की सरकार दिल्ली में बनी और जब 2015 में फिर से विधानसभा चुनाव हुए तो पार्टी ने 70 में से 67 सीटें जीत कर सबको चौंका दिया. ऐसा भी नहीं कि केजरीवाल की पार्टी दिल्ली तक ही सीमित है. पंजाब में भी आम आदमी पार्टी दूसरे नंबर की पार्टी है तो उत्तर प्रदेश, गोवा, गुजरात जैसे राज्यों में पार्टी का संघठन है.

पार्टी के पांच साल होने पर पार्टी अध्यक्ष और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा,”आम आदमी पार्टी के 5 साल। एक अद्भुत यात्रा। कितनी अड़चने, कितनी मुसीबतें आयीं। ईश्वर के आशीर्वाद से और लोगों के प्रेम और सहयोग से आगे बढ़ते गए। निसवार्थ भाव से और ईमानदारी से ऐसे ही हम सब काम करते रहें- ऐसी प्रभु से प्रार्थना है”

इस मौक़े पर मनीष सिसोदिया ने भी ट्वीट किया,”आम आदमी पार्टी’ के 5 साल पूरे होने पर बधाई.-‘आम आदमी पार्टी’ यानि राजनीति के ज़रिए उस सपने को सच करने की कोशिश जिसे हम भारत के लोगों ने 26 नव. 1949 को संविधान की स्थापना करते हुए देखा था.-भ्रष्टाचार मुक्त भारत,शिक्षित राष्ट्र-स्वस्थ राष्ट्र-समर्थ राष्ट्र~जय हिंद…”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *