अगर बच्चे इश्क करने लगे तो वालिद को क्या करना चाहिए ?…मौलाना तारिक मसूद ने फ़रमाया

March 17, 2019 by No Comments

माँ बाप को हमेशा बच्चों की अच्छी तरबियत करनी चाहिए,बचपन से ही उन्हें उठने बैठने का सलीका सिखाना चाहिए,खास तौर पर दीन की बातें उन्हें बचपन में बतानी चाहिए ताकि बड़े हो कर वह कहीं भी रहें,लेकिन अपने दीन को न भूलें।बचपन से ही तौहीद की बुनियाद पर बच्चे की ज़हन साज़ी की जाये और इस का यक़ीन अल्लाह की ज़ात पर पुख़्ता करा दिया जाये तो उस के असरात नुमायां महसूस होते हैं,इस के अंदर ग़ैरत और ख़ुद्दारी आ जाती है और बचपन में बना हुआ यक़ीन दिल में पुख़्तगी के साथ जम जाता है।
ये भी ज़हन में रहना चाहीए कि बच्चा बहरहाल बच्चा होता है इस को हर हर बात में इतना मुहतात और हस्सास बना देना कि वो अपनी फ़ित्री आदतों और जायज़ शरारतों को भी गुनाह समझने लगे और अपने अमल और गुफ़्तगु से कोई बुज़ुर्ग महसूस हो या उस के बचपन के साथ ज़्यादती है,बड़े हो कर ऐसे बच्चों के जज़बात पर या तो एक पज़मुर्दगी सी आजाती है,या बचपन की महरूमियों का जवानी में तदारुक करता है जो ज़्यादा ख़तरनाक है, इस लिए अख़लाक़ की इस्लाह के ज़िमन में एतिदाल और तवाज़ुन बहुत ज़रूरी है।

उमूमन बच्चा की आदत पैसे मांगने की होती है,इस आदत को हद एतिदाल में रखा जाये ना तो ये कि उठते बैठते पैसे लेने ही को बचा वज़ीफ़ा बना ले, और ना ऐसा करे कि बच्चा एहसास-ए-महरूमी का शिकार हो जाये,कोई दोस्त या मेहमान या कोई भी आदमी कुछ चीज़ पैसे वग़ैरा दे तो बचा अपने वालदैन की इजाज़त बल्कि हुक्म के बग़ैर ना ले,किसी से यूंही कोई चीज़ लेने से भी आदत बिगड़ जाती है.
चुनांचे आइन्दा वो शख़्स आ जाए तो लालच की निगाह बच्चा इस पर डालता है ओर उमीद लगाए होता है।अगर वो आदमी दस्ती वग़ैरा निकालने के लिए अपनी जेब में हाथ डालता है तो बच्चा समझता है कि मेरे लिए पैसे निकाल रहे हैं।मुरब्बी इस का भी ख़्याल रखे कि हर वक़्त बच्चे को डाँट डपट ना करता रहे कि इस से यक़ीनन वो बजाय मानूस होने के बेखौफ हो जाता है,फिर उसे चाहे मारा जाये या उसकी गलती पर कोई भी सज़ा दी जाये,उसे कुछ फर्क नहीं पड़ता।

दोस्तों अगर हम अपने बच्चे को बचपन से अच्छी आदत नहीं सिखाएँगे,तो वह आगे चल कर बिगड़ जाएगा।आज कल इन्टरनेट का ज़माना है और हमारे बच्चे हाथ में मोबाइल लिए रहते हैं,इस लिए उनके मोबाइल पर भी नज़र रखनी चाहिए।दोस्तों सोशल मीडिया पर एक विडियो वायरल हो रहा है,जो मौलाना तारिक मसूद साहब का है,वह बयान करते हैं कि अगर किसी का लड़का किसी लड़की से प्यार करता है.
इस बारे में माँ बाप को वह बताए,या माँ बाप को पता चल जाये,तो तुरंत बच्चे को डाटना नहीं चाहिए,बल्कि लड़के से पूछना चाहिए, कि वह कौन है, उसके घर वाले क्या करते हैं,और लड़की कैसी है,फिर उस लड़की के घर वालों के बारे में पता करें,अगर सब कुछ ठीक है,तो शादी कर देनी चाहिए, और ठीक नहीं है तो बच्चे को प्यार से समझाना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *