अहमद पटेल करेंगे विजय रूपाणी पर मानहानि का केस

गुजरात: बुधवार को आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद बीजेपी ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के सलाहकार अहमद पटेल पर गंभीर आरोप लगाए थे। जिसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद अहमद पटेल ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के खिलाफ एक आपराधिक मानहानि मामला दर्ज कर सकते हैं।
सूत्रों के मुताबिक़, अहमद पटेल इस मामले में वकीलों से सलाह-मशवरा किया है। बताया जा रहा है कि वह अगले हफ्ते तक विजय रुपानी को उनके द्वारा चली चाल के लिए कोर्ट में ला सकते हैं।

आपको बता दें की अहमद पटेल पर गंभीर आरोप लगाते हुए रुपाणी ने कहा कि भरूच के अस्पताल से जुड़े रहे जिन कथित आईएस आतंकियों की गिरफ्तारी हुई है। अहमद पटेल इस अस्पताल के ट्रस्टी रहे हैं। ये कथित आतंकी अस्पताल में कर्मचारी के तौर पर पिछले कुछ वक़्त से काम कर रहे थे। अभी 2 दिन पहले ही प्रशासन ने उन दोनों से इस्तीफा मंजूर किया है। बीजेपी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मांग की है कि वो अहमद पटेल से इस्तीफा लें।

कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इसे बीजेपी की ओछी हरकत करार देते हुए कहा कि अहमद पटेल ने अस्पताल से साल 2014 में इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद वो किसी भी तरह अस्पताल से नहीं जुड़े हुए नहीं है। ऐसे में अगर कोई शख़्स किसी आरोप में पकड़ा जाता है, तो आप पूर्व ट्रस्टी को जिम्मेदार कैसे ठहरा सकते हैं। बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार के नाक के नीचे से दाऊद की पत्नी भारत आकर चली जाती है। लेकिन इस बारे में किसी को कोई खबर नहीं होती। इसपर कार्रवाई करने की जगह एटीएस कांग्रेस के नेताओं पर बेबुनियाद इल्जाम लगा रही है।

 

दूसरी तरफ केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अपनी पार्टी की स्थिति साफ करने के लिए कहा है। देश की सुरक्षा को लेकर बीजेपी कोई राजनीति नहीं कर रही है। ये

यह आतंकवादियों को संरक्षण देने का मामला है. अहमद पटेल की इसपर जवाबदेही बनती है कि उन्होंने आतंकी कासिम पर कार्रवाई की बात क्यों नहीं की? उन्होंने कहा कि लोग कह रहे है कि कांग्रेस का हाथ आतंक के साथ। ये तो भ्रष्टाचार से भी ज्यादा काला कलंक है। इस मामले में राष्ट्रीय सुरक्षा ऐजंसियां जांच कर रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.