AIMIM की निगाहें मुख्यमंत्री पद पर भी हैं…

November 9, 2018 by No Comments

तेलंगाना में अगले माह चुनाव होने हैं. तारीख़ भी आ गयी और प्रचार भी ज़ोर-शोर से चल रहा है. देखा जाए तो सबसे अधिक चर्चा इस बात की है कि हैदराबाद में कौन बाज़ी मारेगा. पुराने शहर की बात करें तो ये एआईएमआईएम का गढ़ है. यहाँ से 7 विधानसभा सीटें पिछली बार पार्टी जीती थी और इस बार उम्मीद है कि उससे अधिक जीतेगी. यहाँ पर असद उद्दीन ओवैसी को टक्कर देने में जो पार्टियाँ हैं उनमें कांग्रेस और भाजपा के नाम हैं. प्रदेश की सियासत में मज़बूत टीआरएस पुराने शहर में मज़बूत नहीं है और यहाँ वो ओवैसी को अप्रत्यक्ष समर्थन देती है.

इस बार ओवैसी की पार्टी कितनी मज़बूत है जब हम ये जानने पहुँचे तो मालूम हुआ कि इस बार भी ओवैसी की स्थिति बहुत मज़बूत है. असद उद्दीन ओवैसी लगातार दौरे कर रहे हैं वहीं अकबरुद्दीन ओवैसी भी ज़ोरदार प्रचार में लगे हैं. मजलिस ने इस बार भी अपनी आक्रामक शैली को बनाए रक्खा है. ऐसा माना जा रहा है कि इस चुनाव में भी ओवैसी सबको मात दे देंगे.

ओवैसी और उनकी पार्टी के दूसरे नेता अपने चुनाव प्रचार के दम पर ज़बरदस्त बढ़त में नज़र आ रहे हैं. कांग्रेस और भाजपा जैसी पार्टियों की दाल गलती नज़र नहीं आ रही है.ओवैसी के क़रीबी एक नेता ने बताया कि इस बार के चुनाव में पार्टी और अधिक सीटें जीतने की कोशिश करेगी. अब तक 7 सीटें जीतने वाली पार्टी को उम्मीद है कि वो अपना दायरा बढ़ाएगी. अकबरुद्दीन ओवैसी ने एक सभा के दौरान ये भी कहा था कि अगर कर्णाटक में कुमारस्वामी मुख्यमंत्री बन सकते हैं तो क्या हम तेलंगाना में मुख्यमंत्री नहीं बन सकते. इससे तो यही लगता है कि आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन की नज़र मुख्यमंत्री पद पर है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *