वामपंथ की एकता से फासीवाद को दिया जा सकता है मुंहतोड़ जवाब: दीपांकर भट्टाचार्या

March 5, 2018 by No Comments

चंडीगढ़: वामपंथियों की मजबूती से ही देश में बढ़ रहे फासीवाद का मुकाबला किया जा सकता है इसके लिए सभी वामपंथी ताकतों और लोकतंत्र एवं संविधान को बचाने के लिए ततपर तमाम ताकतों को कदम से कदम मिलाकर चलना होगा। इन विचारों का प्रगटाव सी पी आई ( एम्-एल ) लिबरेशन के महांसचिव कामरेड दीपांकर भट्टाचार्य ने किया वे आज यहाँ आइसा और आर वाई ए ( RYA ) द्वारा आयोजित एक सम्मलेन में मुख्या वक्ता के तौर पर पहुंचे थे।

इस मौके पर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा के सी पी आई ( एम् एल ) लिबरेशन का 10 वाँ महंधिवेशन 23 से 28 मार्च तक पंजाब के मानसा में किया जाएगा। उनहोंने बताया की 23 मार्च को शहीद भगत सिंह, राजगुरु एवं सुखदेव के बुत लगाने के बाद इंकलाब रैली करके इस महांसम्मेलन की शुरुवात की जाएगी। उन्होंने कहा की इस मौके पर भारत एवं पड़ौसी देशों की अन्य कम्युनिस्ट पार्टियों को भी बुलाया गया है।

उन्होंने कहा कि यह सम्मेलन भाजपा द्वारा चलायी जा रही जनविरोधी नीतियों और फैलाये जा रही सांप्रदायिक नफ़रत के माहौल के खिलाफ लेफ्ट एवं अन्य लोकतान्त्रिक शक्तियों की लड़ाई को नई ऊर्जा प्रदान करेगा और साथ ही आने वाले लोकसभा चुनाव में फासीवाद को शिकस्त देने में मजबूत भूमिका निभाएगा। इस दौरान उन्होंने सभी सहयोगी ताकतों को सम्मेलन की सफलता में सहयोग करने की अपील की।

इस मौके पर सी पी आई ( एम् -एल )लिबरेशन के सचिव कामरेड कंवलजीत सिंह, आइसा नेता विजय कुमार, रजत कुमार, अमन रतिया, अंगद कुमार, आर वाई ए के नेता जीवाराज, अनीता वर्मा कामकाजी क्रांतिकारी महिला संगठन के कामरेड ईशा, पवना देवी, रूमान, कान्ति, फिरदोज़ इस सेमीनार के दौरान सी पी आई के कामरेड देवीदयाल शर्मा, आर एम् पी आई के इंदरजीत ग्रेवाल, एप्सो के आर इस मोदगिल एवं पंजाब विश्वविद्यालय के प्रोफेसर मंजीत सिंह ने भी सम्बोधन किया ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *