सीरिया हमलों के खिलाफ चंडीगढ़ में AISA का प्रोटेस्ट- “दरिंदगी की सीमा पार, UNO जवाब दो”

February 27, 2018 by No Comments

चंडीगढ़: आज आल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आइसा ) की और से सीरिया में हो रहे हमलों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया ये प्रदर्शन चंडीगढ़ के सेक्टर 11 कॉलेज और पंजाब यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट सेंटर पर किया गया। प्रदर्शन में PU के सोशियोलॉजी विभाग के प्रोफेसर डॉ- मंजीत सिंह और ट्रेड यूनियन ऐक्टू की और से सतीश कुमार ने संबोधित किया। प्रोफेसर मंजीत ने कहा की सीरिया में हो रहे हमले बड़े ही भयानक हैं जिसमे दरिंदगी की हर सीमा लाँघ दी गई है छोटे छोटे बच्चों को निशाना बनाया जा रहा है और वहाँ 500 से अधिक लोगों को मार दिया गया है इसका जिम्मेदार UN – सिक्योरिटी फोर्सेज और सीरिया के प्रेजिडेंट बशर अल असाद् ( Bashar al- Assad ) है। पूरी दुनिया में इस ग्रहयुद्ध की निंदा होनी चाहिए।

ऐक्टू के लीडर सतीश कुमार ने कहा की आज शहीद चंदर्शेखर आज़ाद का शहीदी दिवस है और आज हम इनके साथ ही उन तमाम मासूमों को भी अपनी श्रधांजलि व्यक्त करते हैं जो सत्ता ने अपने निजी हितों के लिए शहीद कर दिए । इसी के साथ उन्होंने कहा की अमेरिका की शह पर ये हमला किया जा रहा है आज वो केमिकल हथियार बेचकर अपना मुनाफा सैंकड़ों लाशों से कमा रहा है जब पूरा सीरिया उजड़ जायेगा तो ये उसकी कंस्ट्रक्शन का ठेका भी खुद ही ले लेगा तो इसी करूपि पूंजीवाद और फासीवाद के खिलाफ आज देश के छात्रों , मजदूरों , किसानों सहित बुद्धिजीवी वर्ग को भी एकजुट होकर इसका मुकाबला करना चाहिए।

आइसा के विजय कुमार ने कहा की सीरिया में 500 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं जिनमे ज्यादातर बच्चे हैं । और बड़ी गिनती में लोग जख्मी हैं जिनके इलाज के लिए पर्याप्त डॉक्टर तक नहीं हैं हालात ये हैं की वहाँ 3 महीने से लेकर 5 साल तक के बच्चे ज्यादा हैं जिनको मदर फीड की जरूरत है और उनकी माताएं पूंजीवादी सत्ता के स्वार्थ की भेंट चढ़ गई हैं और बच्चे पिछले कई दिन से भूखे बिलक रहे हैं। अकाल की स्थिति बानी हुई है ।

वहाँ की ह्यूमन राइट्स कमीशन के मुताबिक इस जंग की जिम्मेदार सीरिया सरकार और UN के पाँच परमानेंट मेंबर हैं जिन्होंने इस कातिलाना खूनी होली को खेल रहे सत्ताधारियों को नहीं रोका बल्कि चुपचाप तमाशा देखती रही। विजय ने कहा की हम इस घटना पर अपना विरोध व्यक्त करते हैं और भारत सरकार से मांग करते हैं की वो इसमें दखलंदाजी करके इसका विरोध करे।
विरोध प्रदशर्न के दौरान आइसा के समेरर ने फासीवाद के विरोध में अपनी कविताएँ सुनाई और रजत कुमार ने शहीद चंदरशेखर आज़ाद के शहीदी दिवस पर उनकी जीवन की घटनाओं और उनके आज़ादी संग्राम पर अपने विचार व्यक्त किये। प्रदर्शन में आइसा के अंगद कुमार , सिमरन ,समीर , रामनाथ , जैनव सहित अन्य छात्रनेता मौजूद रहे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *