अजीत जोगी-मायावती गठबंधन पड़ रहा है कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए भारी

November 14, 2018 by No Comments

लोकसभा 2019 का चुनाव अगले कुछ महीनों में है उसके पहले कुछ राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। छत्तीसगढ़ राज्य विधानसभा चुनाव की तैयारी जोरों से चल रही है। पार्टियों में खुद को बेहतरीन साबित करने का सिलसिला शुरू हो गया है।विधानसभा चुनाव के लिए जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ और बहुजन समाज पार्टी ने शनिवार को घोषणा पत्र जारी किया। इस दौरान इस गठबंधन के मुख्यमंत्री पद के दावेदार अजीत जोगी ने इसे स्टाम्प पेपर में शपथ पत्र के रूप में पेश किया। अजीत जोगी ने अपने घोषणा पत्र में ऐसी योजनाओं का वादा किया है। चीन योजना को कांग्रेस पार्टी पहले से ही जनता के बीच में जो वादा कर चुकी हैं।परंतु अजीत जोगी ने उसमें अपनी तरफ से और घोषणाओं को जोड़ते हुए जनता का दिल जीतने का प्रयास किया है और निश्चित जनता उनके इस घोषणा पत्र से प्रभावित होगी।

दरअसल अजीत जोगी ने अपने घोषणा पत्र में लड़कियों की पढ़ाई में छूट देने की बात की है।साथ ही साथ उन्होंने धान का समर्थन मूल्य 2500 रुपए प्रति क्विंटल तय किया जाएगा। किसानों को 5 हार्स पावर तक की बिजली मुफ्त में दी जाएगी।  राज्य के स्थानीय लोगों को सरकारी नौकरियों में 100 प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा।  मैट्रिक पास बेरोजगारों को 1001 रुपए, ग्रेजुएट पास बेरोजगारों को 1501 रुपए और पोस्ट ग्रेजुएट पास बेरोजगारों को 2001 रुपए प्रतिमाह बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा।और तो औरकिसी भी हितग्राही की सामाजिक सुरक्षा पेंशन की मासिक दर 1500 प्रति महीने से कम नहीं होगी।  महंगाई कम करने की कोशिश की जाएगी। जानकारी के लिए आपको बता दे की जैसा मैं पहले ही कहा था कि,अजीत जोगी के द्वारा पेश किया गया घोषणा पत्र कहीं ना कहीं कांग्रेस के चुनावी वादों को और बढ़ा चढ़ाकर है क्योंकि कांग्रेस पार्टी ने भी अपने घोषणापत्र में घोषणापत्र में एक लाख सरकारी पदों पर भर्ती, मुफ्त इलाज की सुविधा, आंगनबाड़ी केंद्रों में शिक्षा का बंदोबस्त, किसानों के कर्ज माफ करने और बिजली का बिल आधा करने का वादा किया गया है। वहीं स्वामीनाथन कमेटी की कई सिफारिशों को लागू करने की कोशिश का भी ऐलान किया है।

आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ में हो रहे विधानसभा चुनाव में दो चरणों में वोटिंग होगी. छत्तीसगढ़ में विधानसभा की 90 सीटें हैं। पहले चरण के लिए 12 नवंबर और दूसरे चरण के लिए 20 नवंबर को वोट डाले जाएंगे।पहले चरण में यानी इस महीने की 12 तारीख को बस्तर क्षेत्र के सात जिले और राजनांदगांव जिले की 18 सीटों पर मतदान होना सुनिश्चित है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ में इस समय भाजपा की सरकार है। और तो और छत्तीसगढ़ी पिछले 15 सालों से भाजपा की सरकार है ,पर इस बार भी भाजपा अपने पूरे दमखम से चुनावी रणनीति में जुड़ चुकी है और तीसरी बार फिर से अपने सरकार बनाने के सभी प्रयत्न करने में लगी हुई है ।वहीं कांग्रेस पार्टी भी इस बार छत्तीसगढ़ में आने की तैयारी कर रही है। इन सब के बीच बसपा और जनता कांग्रेस पार्टी का गठबंधन पार्टियों पर भारी पड़ने वाला है और उनके चुनावी वादों को देखते हुए ऐसा लग रहा है कि यह भाजपा और कांग्रेस के लिए निश्चित ही चिंताजनक विषय है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *