अखबार में लिपटी हुई चीज़ों को खाने से पहल जान ले ये वरना बाद में होगा पछतावा

February 14, 2019 by No Comments

पहले के जमाने में कहा करते थे कि एक उम्र का सफर तय करने के बाद लोगों को बीमारियां लगा कर दी थी।लेकिन आज के वक्त में माहौल बिल्कुल विपरीत हो चुका है छोटे से छोटे बच्चे को भी गं’भीर बी’मारियां लग रही हैं।दरअसल इसमें हमारी अपनी भी कई गलतियां होती हैं।जिसकी वजह से हम बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं।
आज हम आपको एक ऐसी जानकारी से रूबरू करवाएंगे जो अक्सर नोटिस में नहीं आती। क्या आप भी अखबार में लिपटा हुआ खाना खाते हैं तो इस खबर को जरूर पढ़ें।गौरतलब है कि लोग आजकल स्ट्रीट फूड खाना काफी पसंद कर रहे हैं और यह स्ट्रीट फूड कितना हाइजेनिक होता है।इसके बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता।जैसा कि हम सब जानते हैं कि सड़कों पर मिलने वाला स्ट्रीट फूड अक्सर अखबार में लपेट कर दिया जाता है।

स्ट्रीट फ़ूड


कई लोग घर पर भी खाने की चीजों को लपेटने के लिए अखबार का इस्तेमाल करते हैं।अगर आप ही ऐसा कर रहे हैं तो अभी सावधान हो जाइए क्योंकि खाने की चीजों को अखबारों में लपेटकर आप अपनी सेहत को बहुत बड़े ख’तरे में डाल रहे हैं।
आपको बता दें कि खाने की चीज को अखबार में लपेटने से कैंसर का खतरा हो सकता है।इसी के चलते फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने देश भर के लोगों को अखबार या प्लास्टिक में खाना खाने से रोकने की सलाह दी है।फूड अथॉरिटी का मानना है कि अखबार में लिपटा हुआ कोई भी फूड आइटम खाने से आपकी सेहत को ख’तरा हो सकता है।
क्योंकि अखबार की स्याही में मल्टीपल बायो एक्टिव मैटेरियल मौजूद होते हैं।जो कि आपकी सेहत पर नकारात्मक असर डालते हैं।अगर यह सीहाई आपके शरीर के अंदर पहुंच जाए तो कैंसर सहित कई ख’तरनाक बीमारियों को जन्म दे सकती है।

स्ट्रीट फ़ूड


इसके साथ फूड अथॉरिटी ने यह बात भी मानी है कि भारत के लोग जाने अनजाने में स्लो प्वाइजन का शिकार हो रहे हैं। क्योंकि देश में इस वक्त बड़े पैमाने पर स्ट्रीट वेंडर्स खाने की चीजों को अखबार में लपेट कर दे रहे हैं।
लोगों को लगता है कि अखबार तेल को सोख लेती है लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है।हाल ही में हुई रिसर्च में यह बात साफ हो चुकी है कि अखबार की सीआई में मौजूद केमिकल आपके शरीर में कैं’सर के खतरे को बढ़ा रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *