कांग्रेस से नाराज़ हुए अखिलेश, दिया बड़ा बयान

October 10, 2018 by No Comments

भोपाल: समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक ऐसा बयान दिया है जो कांग्रेस के लिए मुश्किल ला देगा. अखिलेश यादव ने सोमवार को कहा कि जिन लोगों को भी मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस से टिकट नहीं मिलता है वो समाजवादी पार्टी में आ सकते हैं. अखिलेश यादव की नाराज़गी उनके बयान से ज़ाहिर हो रही है. असल में सपा द्वारा कल जारी की गई छह उम्मीदवारों की पहली सूची में घोषित किये गये बुधनी विधानसभा क्षेत्र से सपा के उम्मीदवार अर्जुन आर्य ने सपा का टिकट वापिस कर दिया.

अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष


वर्तमान में बुधनी से मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भाजपा के विधायक हैं. प्रदेश में 28 नवंबर को विधानसभा चुनाव होने हैं. आर्य ने प्रदेश में भाजपा को हारने के लीये कांग्रेस को मज़बूत विकल्प माना है और इस कारण उन्होंने कांग्रेस में शामिल होने की इच्छा जताई.

अखिलेश ने खजुराहो में टिकट ना पाने वाले कांग्रेस नेताओं के लिये सपा के द्वार खुले होने का आश्वासन देते हुए कहा, ‘कांग्रेस ने इसी तरह बसपा को नाराज किया. यदि इसके पीछे कांग्रेस नेताओं का हाथ है. हम तो स्वागत करते हैं उन तमाम लोगों का जो समाजवादी पार्टी से चुनाव लड़ना चाहते हैं. मैं यह नहीं कहूंगा कि कांग्रेस को हमारे उम्मीदवारों को लेना चाहिये लेकिन मुझे बुरा लगेगा यदि मैं यह कहूँ कि कांग्रेस के जिन साथियों को टिकट ना मिले वह सपा में शामिल हो जायें. ’

यादव ने कहा कि इस बात को याद रखने की ज़रूरत है कि जब भी कांग्रेस पार्टी कमज़ोर होती है तो उसके सबसे क़रीब कोई दल होता है तो वो समाजवादी दल ही होता है. मध्यप्रदेश में सपा के बाकी प्रत्याशियों की घोषणा के सवाल पर एक सपा उम्मीदवार के टिकट वापस करने से सचेत सपा अध्यक्ष ने कहा, ‘अभी नहीं होगी प्रत्याशियों की घोषणा, अभी केवल बातचीत होगी. प्रत्याशियों की घोषणा रुक कर होगी.’

मध्यप्रदेश में गठबंधन न हो पाने को लेकर अखिलेश ने इसकी सारी ज़िम्मेदारी कांग्रेस के सर पर फोड़ दी. उन्होंने कहा,”गठबंधन कि जिम्मेदारी कांग्रेस की थी कि सभी दलों को साथ लेने की.”आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में बसपा-कांग्रेस गठबंधन न हो पाने को लेकर भी सपा ने कांग्रेस को ही ज़िम्मेदार माना है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *