अखिलेश ने उठाया जाति-आधारित जनगणना का मुद्दा, भाजपा सरकार को घेरा..

November 4, 2018 by No Comments

लखनऊ: लोकसभा 2019 का चुनाव अभी कुछ दिनों में होने वाले हैं सभी राजनीतिक पार्टियां तैयारियों में जोरों शोरों से लग चुकी है। विपक्षी राजनीतिक गलियारों में बस एक ही है किस तरह से भाजपा को राज्य और केंद्र की सत्ता से हटाया जाए. लोकसभा 2014 के चुनाव में पूर्ण बहुमत के साथ काफी समय अंतराल के बाद भाजपा ने अपनी सरकार बनाई थी,और अब कुछ ही दिनों में इस सरकार का कार्यकाल खत्म होने वाला है।जहां एक तरफ भाजपा पुनः सत्ता में लौटने की कोशिश कर रही है तो वहीं विपक्षी दल भी पूरी तरह से कमर कसकर चुनावी मैदान में खड़े हैं।यूपी विधानसभा चुनाव में करारी हार का सामना करने के बाद सपा में मंथन और बैठकों का दौर चल रहा है।  चुनावी रणनीति बनाने और समझने के लिए उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सभी पदाधिकारियों की शनिवार को एक मीटिंग बुलाई थी जिसमें उन्होंने तत्कालीन सरकार पर जमकर जवाबी हम-ले बोले।

पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा इस समय लोकसभा 2019 के चुनाव के पहले जनता को एक बार फिर से गुमराह करने की कोशिश में लगी हुई है ।चुनावी जुमले बोलने कर जनता को फिर से अपने वश में करना चाहती हैं लेकिन इस बार जनता उनका जवाब जरूर देगी।उन्होंने कहा कि भाजपा जनता के ज़हन में नकारात्मक विचार पहुंचाकर उनके दिमाग़ से खेल रही है। अखिलेश यादव ने एक के बाद एक कई तीखे वार करके भाजपा की कमियां गिनाईं.उन्होंने कहा कि भाजपा ने देश के लिए और जनता के लिए कोई भी काम नहीं किया है ।किसानों को और नौजवानों को वह भटका रही है और नकारात्मक विचार लोगों के मन में भ्रम पैदा कर रही है ।भाजपा ने अभी तक एक भी काम किसानों के पक्ष में नहीं किया है। वह केवल बातों से लोगों का दिल जीतने की कोशिश करते हैं काम के नाम पर वह बिलकुल ज़ीरो हैं।

भाजपा के शासनकाल में हुए घोटालों के बारे में अपने कार्यकर्ताओं से बात करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा केवल उद्योगपतियों का ख़याल रखती है.भाजपा देश के गिने चुने व्यापारियों की झोली भर रही है और जनता को मूर्ख बना रही है ।साथ ही साथ उन्होंने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं की हौसला अफजाई करते हुए यह भी कहा कि चुनावी जंग में केवल एक ऐसी पार्टी है जो भाजपा का मुकाबला कर सकती है और उसे मुंह तोड़ जवाब दे सकती है। समाजवादी लोग चाहते हैं कि जनगणना जाति आधारित हो तो आबादी के हिसाब से योजनाओं का लाभकारी आवंटन हो सकता है। सामाजिक न्याय की लड़ाई बड़ी है. समाजवादी ही इस लड़ाई को लड़ सकते हैं।

समाजवादी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा ने जनता की भावनाओं के साथ केवल खिलवाड़ किया है। कर्ज़माफी से लेकर भ्रष्टाचार तक सभी मुद्दों पर सिर्फ बातें हुई है काम एक भी नहीं हुआ है ,औरजनता अब समझदार हो चुकी है ।वह किसी के बहकावे में नहीं आ सकती लोग कितना भी बाकी बातें कर ले जनता को असलियत का पता लग चुका है और आने वाले 2019 के चुनाव में जनता निश्चित ही भाजपा को सत्ता से बाहर कर के विपक्ष में बैठाएगी.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *