ये जनता की परेशानियों को अनदेखा करने वाली अहंकारी सरकार का विनाशकारी बजट है: अखिलेश यादव

February 1, 2018 by No Comments

नई दिल्ली: इस आम बजट में देश के वित्तमंत्री अरुण जेटली ने किसानों और ग्रामीण अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर अपना खाजाना खोल दिया है। वहीँ इसे पेश करते हुए देश के नौकरीपेशा लोगों को निराश किया है। हालांकि उम्मीद जताई जा रही थी कि चुनावों वाले इस साल में मोदी सरकार टैक्स स्लैब में बदलाव कर कुछ राहत दे सकती है। लेकिन ऐसा वित्त मंत्रालय ने ऐसा कोई भी फैसला लेकर मध्यम वर्ग के लोगों को निराश किया है।
इस मामले में सोशल इस मामले में उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने ट्वीट कर केंद्र सरकार पर हमला बोला है। अखिलेश ने ट्वीट किया है कि गरीब-किसान-मजदूर को निराशा; बेरोजगार युवाओं को हताशा; कारोबारियों, महिलाओं, नौकरीपेशा और आम लोगों के मुँह पर तमाचा। ये जनता की परेशानियों की अनदेखी करने वाली अहंकारी सरकार का विनाशकारी बजट है। आखिरी बजट में भी भाजपा ने दिखा दिया कि वो केवल अमीरों की हिमायती है। अब जनता जवाब देगी।

गुजरात के युवा पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने ट्वीट कर कहा है कि पहले साहेब बोले हर साल दो करोड़ युवाओं को नौकरी देंगे और आज अरुण जेटली ने बोला हर साल 70 लाख लोगों को नौकरी देंगे,अब समझ नहीं आ रहा किस पर यकीन करें?
वहीँ कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा मोदी सरकार के इस बजट पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। सुरजेवाला ने लिखा है की

राष्ट्र स्वास्थ्य बीमा योजना = जुमला
कुल लाभकर्ता -26.97 करोड़
पर 21.44 करोड़ बीमाधारकों का बीमा कार्ड बनाया ही नहीं !

इसे कहते है –
ढोल बजाओ, प्रचार करवाओ,
कुछ लाभ न पहुँचाओं !

बजट पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट किया, ‘ हमें सेस से छुटकारा कब मिलेगा? लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन फिर से आ गया है, गरीबों को देने के लिए अमीरों को लूट लो, गरीब लोग वोट देते हैं, बाकी लोगों को उनके टैक्स का भुगतान करना चाहिए, जबकि सुपर रिच को तो कोई फर्क ही नहीं पड़ता है, मोदीनोमिक्स वर्सेज वोटर नॉमिक्स।’

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *