अखिलेश का बड़ा बयान-‘ज़रूरत पड़े तो सुप्रीम कोर्ट अयोध्या में भेजे आर्मी’

November 24, 2018 by No Comments

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने 25 नवंबर को अयोध्या में होने वाली धर्मसभा को लेकर भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि भाजपा को न तो सुप्रीम कोर्ट पर विश्वास है और न ही संविधान पर। ये लोग किसी भी हद तक जा सकते हैं। दरअसल यह आशंका जताई जा रही है कि अयोध्या में राम मंदिर को लेकर एक बार फिर माहौल गरमा सकता है. 25 नवंबर को अयोध्या में शिवसेना कूच करने वाली है वहीं, विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) भी धर्मसभा करने वाली है. जिसके बाद स्थानीय लोगों में डर है कि यहां का माहौल बिगड़ ना जाए. तनाव की आशंका को देखते हुए स्थानीय लोग राशन जुटाना शुरू कर दिए हैं. हिंदू और मुस्लिम परिवारों ने तनाव और हालात बिगड़ने के डर से जरूरी सामान जुटाने शुरू कर दिया है.

स्थानीय लोगों का मानना है कि इतनी बड़ी संख्या में जब लोग अयोध्या में कूच करेंगे तो माहौल खराब हो सकता है. इसलिए वो अपने जरूरत की सामान जुटा रहे हैं ताकि परेशानी का सामना नहीं करना पड़े. वहीं, पुलिस ने भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करके रखा हुआ है ताकि किसी भी तरह की अनहोनी से निपटा जा सके. बता दें कि अयोध्या में आगामी रविवार को धर्मसभा का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें बड़ी संख्या में रामभक्तों के आने की संभावना है। इस आयोजन को सफल बनाने के लिए संघ ने पूरा जोर लगा दिया है।

अखिलेश ने कहा, बीजेपी ना तो सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा करती है और ना ही संविधान पर. बीजेपी किसी हद तक जा सकती है. यूपी में जैसा माहौल है,खासकर अयोध्या में, सुप्रीम कोर्ट को इस पर संज्ञान लेते हुए नोटिस भेजना चाहिए या फिर जरूरत पड़े तो आर्मी भेजें. वहीं, विहिप ने अखिलेश यादव व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर राम मंदिर मुद्दे को लेकर निशाना साधा। बृहस्पतिवार को प्रांत संगठन मंत्री भोलेन्द की तरफ से जारी बयान में कहा गया था कि जनेऊ पहनकर व मानसरोवर की यात्रा से हिंदू बनकर और रामनामी दुपट्टा ओढ़कर मंदिर का विरोध करने वालों को यह धर्मसभा अंतिम संदेश है। मंदिर निर्माण का विरोध छोड़ दें तो ही अच्छा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *