आर्यन को जमानत मिली,HC में जीत पर शाहरुख के वकील ने कहा..

आर्यन खान का प्रतिनिधित्व करने वाले पूर्व एजी मुकुल रोहतगी ने कहा-बॉम्बे HC ने 3 दिन तक दलीलें सुनने के बाद आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट, मुनमुन धमेचा को ज’मानत दे दी है। विस्तृत आ’देश कल दिया जाएगा। उम्मीद है कल या शनिवार तक सभी जे’ल से बाहर आ जाएंगे।

रोहतगी ने कहा-अदालत से आदे’श जारी होने के बाद वे (आर्यन खान, अरबाज और मुनमुम धमेचा) जे’ल से बाहर आएंगे। मेरे लिए, यह एक नियमित मामला है। किसी को जी’त मिलती है, किसी को हा;र। मुझे खुशी है कि उन्हें (खान) जमानत मिल गई है।

मुकुल रोहतगी के अनुसार,आर्यन, अरबाज और मुनमुन, तीनों को जमान’त मिलने के बाद कल या परसों रिहा किया जाएगा.आर्यन की ओर से वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने कहा, ‘सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कोई रिकवरी अधिकतम नहीं थी.’

‘ मैं अरबाज के साथ गया था, जिनके पास 6 ग्राम थी, जिसे NCB ने साजि’श के तहत कमर्शियल मात्रा जोड़ी है.जो पांच अन्य लोग कर रहे हैं वह मुझ पर लागू किया जा रहा है.’

उन्होंने कहाकि जहाज पर 1300 लोग सवार थे. इस बात का कोई सबूत नहीं है कि मैं अरबाज और अचित आरोपी नंबर 17 को जानता था. उनके पास 2.6 ग्राम था। डीलरों के पास 2.6gms नहीं है, उनके पास 200 ग्राम है. NCB कह रही है यह संयोग नहीं है.

मामला यह है कि अगर यह संयोग नहीं है तो यह एक सा’जिश है. संयोग का सा’जिश से कोई लेना-देना नहीं है. यदि दो कमरे में दो लोग भोजन कर रहे हैं तो क्या आप पूरे होटल को पकड़ लेंगे?

गुरुवार को जब मामले की सुनवाई शुरू हुई तो NCB की ओर से ज’वाब देते हुए ASG अनिल सिंह ने कहा कि आर्यन पिछले कुछ वर्षों से नियमित उपभोक्ता है और रिकॉर्ड से पता चलता है कि वह ड्र’ग्स उपलब्ध करा रहा है और संदर्भ ड्र’ग्स की थोक मात्रा और व्यावसायिक मात्रा का है. वो ड्र’ग्स तस्करों के संपर्क में रहा है, इसलिए भले ही वह क’ब्जे में नहीं पाया जाता है

लेकिन प्रयास किया जाता है तो धारा 28 लागू होगी.और अगर कोई साजि’श है तो NDPS एक्ट की धारा 37 की स’ख्ती जमानत के लिए स्वत: लागू हो जाएगी.अदा’लत ने पूछा कि आप किस आधार पर कह रहे हैं कि उसने कमर्शियल मात्रा का सौ’दा किया है तो एएसजी ने कहा कि व्हाट्सएप चैट के आधार पर मैं यह कह रहा हूं.

यही नहीं, जब इन्होंने शिप को पक’ड़ा तो सभी के पास मल्टीपल ड्र’ग्स मिली, यह संयोग तो नहीं हो सकता. उन्होंने यह भी कहा कि एएसजी अनिल सिंह ने कहा कि फैसले बताते हैं कि NDPS एक्ट’ में जमानत,नियम नहीं,अपवाद है.

हालांकि हाईकोर्ट ने मामले में आर्यन और दो अन्य आरो’पियों को जमा’नत पर रिहा करने का आ’देश दिया.गौरतलब है कि NCB द्वारा 2 अक्टूबर को गिर’फ्तार किए जाने के बाद से NCB की हिरा’सत और बाद में मुंबई की आर्थर रोड जे’ल में बं’द आर्यन खान को बॉम्बे हाईकोर्ट ने गुरुवार को ज़मा’नत दे दी.

इससे पहले, सेशन्स को’र्ट और उससे भी पहले मजिस्ट्रेटी अदा’लत ने आर्यन खान को ज़मा’नत देने से इं’कार कर दिया था, और वह पिछले 26 दिन से पहले NCB की कस्ट’डी और फिर जे’ल में ही बं’द रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.