विधानसभा चुनाव:सट्टा बाज़ार में भाजपा का गिरा भाव,सटोरिया बीजेपी को दे रहे है बस इतनी सीट

November 27, 2018 by No Comments

चुनाव यूँ तो नई सरकार आने के संकेत के तौर पर देखे जाते हैं लेकिन भारत में चुनाव को एक त्यौहार की तरह भी देखा जाता है. जिस भी क्षेत्र में चुनाव होता है सभी लोग इसमें घुल मिल जाते हैं. कई दिनों तक बस ये चर्चा होती है कि कौन नेता, कौन उम्मीदवार और कौन अभिनेता-अभिनेत्री किसके समर्थन में आ रहा है. अगले साल लोकसभा चुनाव होना है जो देश का सबसे बड़ा चुनाव है लेकिन फ़िलहाल जो गहमागहमी है वो है पाँच राज्यों के विधानसभा चुनाव की.इन पाँच राज्यों पर देश की बड़ी-बड़ी पार्टियों की निगाहें टिकी हैं. 5 राज्यों के विधानसभा चुनावों के रिजल्ट को लेकर कयास का बाज़ार भी गर्म है. कहीं पर कोई पार्टी मज़बूत बतायी जा रही है तो कहीं कोई और. चलिए जानते हैं कि सट्टा बाज़ार किस तरह की बातें कर रहा है. इन पाँच राज्यों में तीन राज्य वो सबसे अहम माने जा रहे हैं जहां भाजपा और कांग्रेस की सीधी टक्कर है. ये तीन राज्य हैं-राजस्थान,मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़.

अगर इन तीन राज्य की बात करें तो यहाँ चोरी छुपे चलने वाला सट्टा बाज़ार भी ख़ूब गर्म है. सटोरिये भाव, चल सब अदल बदल कर रहे हैं. वोटर्स के मूड को पढ़ने की पूरी कोशिश कर रहे हैं ये सट्टेबाज़. हर एक पल में ये रेट बदल देते हैं. चुनावी खींचतान के बीच ये काला बाज़ार करोड़ों रुपयों का है. सट्टे बाज़ार के रेट की मानें तो इस समय कांग्रेस के लिए अच्छी ख़बर है जबकि भाजपा पिछड़ रही है. इस समय बताया जा रहा है कि इन चुनावों के नतीजों पर २० करोड़ से भी अधिक का सट्टा लगा हुआ है. सट्टा बाज़ार की अगर मान लें तो मध्य प्रदेश और राजस्थान में भाजपा पिछड़ गयी है और भाजपा को आख़िरी समय में होने वाला कोई करिश्मा ही बचा सकता है परन्तु ऐसा कुछ अभी होता नज़र नहीं आ रहा. छत्तीसगढ़ में भाजपा किसी तरह अभी आगे चलती नज़र आ रही है. सट्टा बाज़ार के कयास मान रहे हैं कि यहाँ कुछ सीटों के अंतर से भाजपा बढ़त बना पाएगी.

Amit Shah, BJP President

मध्यप्रदेश में मज़बूत है कांग्रेस- सट्टा बाज़ार में चल रही उथल-पुथल की मान लें तो भाजपा मध्य प्रदेश में मुश्किल में है. एक वेबसाइट में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार यहाँ वो महज़ 100-102 ही सीटें जीत सकेगी जबकि कांग्रेस सरकार बनाने में कामयाब रहेगी. कांग्रेस को यहाँ 117-118 सीटें मिलने का अनुमान बताया जा रहा है. सट्टा बाज़ार तो यहाँ तक आंकलन लगा रहा है कि मध्य प्रदेश के कई मंत्री चुनाव हारने वाले हैं. कांग्रेस की स्थिति को सट्टा बाज़ार मज़बूत मान रहा है. लोग भी गलियों में चर्चा कर रहे हैं और उससे भी माहौल का पता लग रहा है. परन्तु ये कहा जाता है कि शिवराज सिंह चौहान आख़िरी समय में कोई करिश्मा कर सकते हैं. पर अब वो ऐसा कर पाएँगे ये सिर्फ़ सोच में ही रह जा रहा है.

गणितीय कैलकुलेशन पर चलने वाले सट्टा बाज़ार में ये माना जाता है कि अगर किसी पार्टी का रेट कम है तो वो मज़बूत है. किसी का रेट जितना कम है, पार्टी उतनी ही मज़बूत है और चुनाव जीत रही है. इस बारे में एक ख़बर अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स में भी छपी है. इस खबर के मुताबिक एक सटोरी ने कहा कि एक महीने पहले भाजपा काफ़ी आगे थी लेकिन जैसे जैसे चुनाव क़रीब आ रहे हैं, बाज़ी पलट रही है या यूँ कहें कि पलट चुकी है. बताया जा रहा है कि एक महीने पहले कांग्रेस पर हज़ार रूपये लगाने पर कांग्रेस की जीत पर २ हज़ार रूपये उसे मिलते लेकिन अब इस तरह का हिसाब नहीं है. उस समय भाजपा बहुमत के पार नज़र आ रही थी अब तो भाजपा पिछड़ गयी है.

राजस्थान कांग्रेस की होगी शानदार जीत– मध्य प्रदेश के अलावा राजस्थान में भी भाजपा के लिए कोई बहुत अच्छी ख़बर नहीं है. यहाँ अभी तक जितने सर्वे आये हैं सब में भाजपा बुरी तरह पीछे नज़र आ रही है. स्थिति ये है कि राजस्थान भाजपा के कुछ नेता भी जीत का कोई दावा करने से बचते नज़र आ रहे हैं. इस बारे में सटोरियों का जो कहना है वो इन सर्वे से कुछ भी अलग नहीं है. सटोरियों के मुताबिक़ यहाँ कांग्रेस बड़ी जीत हासिल करने जा रही है जबकि भाजपा पिछड़ रही है. राजस्थान में कांग्रेस को 127-129 सीटें मिलने का अनुमान सट्टा बाज़ार लगा रहा है जबकि भाजपा फिसल कर 54 तक आ सकती है. जानकार इस तरह के आंकड़ों की वजह बता रहे हैं कि जनता मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से काफ़ी नाराज़ है और इसका नुक़सान भाजपा को उठाना पड़ सकता है.

भाजपा की स्थिति इस हद तक ख़राब बतायी जा रही है कि कैबिनेट मंत्री भी चुनाव हार सकते हैं. भाजपा अपना पूरा ध्यान इस समय चुनाव प्रचार में लगाए है. वहीँ इस बारे में ख़ूब बहस है कि कांग्रेस के चुनाव जीतने पर मुख्यमंत्री कौन बनेगा. कुछ लोगों का कहना है कि सचिन पायलट मुख्यमंत्री बनेंगे तो कुछ अशोक गहलोत पर ही दांव खेल रहे हैं.

छत्तीसगढ़ में भाजपा की जीत– इन तीनों राज्य में ये सबसे छोटा राज्य है. यहाँ वोटिंग हो चुकी है. यहाँ अक्सर कांग्रेस और भाजपा के बीच काँटे की टक्कर रहती है, इस बार भी स्थिति उससे अलग नहीं है. लोगों ने इस राज्य में वोट भी डाल दिए हैं और वोट evm में बंद भी हो चुके हैं. यहाँ पर जो सट्टा बाज़ार कह रहा है वो भाजपा के पक्ष में है. यहाँ पर भाजपा को 90 सीटों में से 43-45 सीटें मिलने की उम्मीद जतायी जा रही है जबकि कांग्रेस को 38-40. कुल मिलकर अगर ये आंकड़े सही साबित होते हैं तो रमण सिंह अपनी सरकार बचाने में कामयाब रहेंगे. तीन राज्यों में छत्तीसगढ़ ही एक ऐसा राज्य दिख रहा है जहां भाजपा बेहतर स्थिति में है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *