जब एक औरत ने हज़रत अली से पूछा- क्या प्यार में जिना जायज़ है? इस पर उन्होंने ने फरमाया…

January 8, 2019 by No Comments

दोस्तों आजकल आपने देखा होगा जादातर लड़के लड़कियां आपस में मोहब्बत करते हैं और साथ ही साथ हर हद पार कर देते हैं और इस्लाम में बिना निकाह के आपस में जिना करना बहुत बड़ी गुनाह है.दोस्तों आजकल आप ने देखा होगा,लड़का और लड़की के बीच प्यार और मोहब्बत के कई वाकिये देखे और सुने होंगे,पश्चिमी सभ्यता का नौजवानों पर ऐसा हुआ है कि वो सारी हदे पार कर देते है.आज हम इस बारे में ही आपको बताने जा रहे है.
दोस्तों क्या आप ने ये सोचा है कि प्यार के नाम पर आजकल जो चल रहा है वो इस्लाम में जायज़ है या नही.अगर आप इस बारे में मुक़म्मल जानकारी नही रखते है तो हम आप को यहाँ पर एक वाकिया बताने जा रहे है जोकि इस प्रकार है.एक बार एक नौजवान लड़की हजरत अली रजी अल्लाह ताला अन्हु के पास आई और उसने कहाकि मेरे पास एक ऐसा सवाल है जो मैं पूछने में हिचकिचा रही है.इस पर हजरत अली रजी अल्लाह ताला अन्हु ने फ़रमाया कि आप का जो भी सवाल है वो पूछो.

google


इसके बाद लड़की ने कहाकि उसे एक शख्स है जो उससे प्यार करता है और वो भी उसे पसंद करती है लेकिन वो शख्स मेरे जिस्म को छूने की कोशिश करता है.क्या मैं उस शख्स को छूने की इजाजत दे सकती है? इस पर हजरत अली ने फ़रमाया,नही आप किसी शख्स को इस बात की इज़ाज़त बिलकुल नही दे सकती है,इस्लाम में शादी को बहुत ही आसान बनाया गया है आप दोनों लोग शादी कर सकते है.बिना शादी के मियां बीबी जैसे रिलेशन करना हराम है.
हजरत अली ने फ़रमाया,मोहब्बत का मतलब इज्जत है और वो शख्स अगर आप को मोहब्बत करता है तो उसे जमाने के सामने रिश्ते को इज़हार करना चाहिए जिसका जरिया निकाह है.अगर वो शख्स जमाने के सामने इस रिश्ते को नाम नही दे सकता है तो ये हराम है ये नाजायज़ है.

google


हजरत अली के जवाब से ये बात समझना आसान है कि मोहब्बत के नाम पर जिना किसी भी सुरत में जायज़ नही है.दोस्तों बता दे कि इस्लाम में जिना को गुनाह ऐ कबीरा बताया गया है यानि ये सबसे बड़े गुनाहों में से एक है.इसलिए ऐसे गुनाह से लोगो को हर हाल में बचना चाहिए और किसी से मोहब्बत है तो उसे निकाह करना चाहिए.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *