कांग्रेस का दामन छोड़ सकते हैं अज़हरुद्दीन, इस पार्टी में जाने की संभावना

November 18, 2018 by No Comments

कांग्रेस नेता व भारतीय क्रिकेटर कांग्रेस पार्टी में लंबे समय से हैं उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर मुरादाबाद से लोकसभा का चुनाव भी लड़कर जीत हासिल किये थे और सांसद के रूप में जनता का प्रतिनिधित्व करने लगे थे। उसके बाद से अंतिम चुनाव लड़े लेकिन उसमें हार मिली। दरअसल कांग्रेस के नेताओं में से अजहरुद्दीन एक ऐसे नेता हैं जो खुद में एक अलग पहचान हैं। वो भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान भी रह चुके हैं। आपको बता दें कि कांग्रेस अल्पसंख्यक नेताओं को विशेष रूप से मुस्लिम समुदाय के नेताओं को लगातार नजरअंदाज करती आ रही है.

इससे मुस्लिम समुदाय के लोगों की लिस्ट में अजहरुद्दीन पार्टी से नाखुश हैं और पार्टी से इस्तीफा देने का भी विचार कर रहे हैं। और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) में शामिल होने की संभावनाएं हैं। अजहरुद्दीन के करीबी सूत्रों के हवाले से सिआसत ने लिखा कि पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी टीआरएस पार्टी में शामिल होना चाहते हैं क्योंकि तेलंगाना राज्य में वह कांग्रेस नेताओं से काफी परेशान हैं जो पार्टी के हितों को आगे बढ़ाने के लिए अपनी सेवाओं का उपयोग करने में सक्षम नहीं हैं और पार्टी के बड़े चेहरों को पीछे छुपाने में लगे हैं ऐसे में अगर बड़े चेहरों को नजरअंदाज किया जायेगा तो जाहिर सी बात है कि उनकी नाराजगी बाहर आएगी।

आपको बता दें कि अजहरुद्दीन कांग्रेस पार्टी के साथ रहे हैं और 2009 में उत्तर प्रदेश में मुरादाबाद लोकसभा के सांसद चुने गए थे। उन्होंने राजस्थान के टोंक-सवाई माधोपुर से अंतिम चुनाव हार गए। हालांकि, हाल के दिनों में गांधी भवन में कांग्रेस की बैठक में कांग्रेस नेता को देखा गया था। अजहरुद्दीन ने सिकंदराबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने की अपनी इच्छा जताई थी लेकिन सिकंदराबाद एम के पूर्व सांसद अंजन कुमार यादव ने उनकी अस्वीकृति की आवाज उठाई और अज़हर को हैदराबाद लोकसभा सीट के लिए चुनाव लड़ने का सुझाव दिया और उन्हें समर्थन देने का आश्वासन भी दिया। गौरतलब है कि एआईसीसी अल्पसंख्यक विभाग राष्ट्रीय समन्वयक, जो शुक्रवार खलीकुर रहमान पर टीआरएस में शामिल हो गए, उन्होंने कहा कि “मैं चाहता हूं कि टीआरएस अपने कार्यों के कारण मजबूत हो और हर कोई अज़रुद्दीन समेत सरकार के अच्छे कार्यों की भी सराहना करे, मैं अज़रुद्दीन को टीआरएस में शामिल होने के लिए आमंत्रित करूंगा। अगर वे राज़ी हो जाते हैं तो टीआरएस को तेलंगाना में एज और कामयाबी मिलेगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *