बहू पर नहीं था भरोसा, दादा-दादी ने चुपके से कराया पोते का DNA टेस्ट, फिर हुआ ऐसा

January 12, 2022 by No Comments

एक शख्स की पिता बनने की खुशियां उस वक्त तना’व में बदल गई जब उसके माता-पिता ने बहू के चरित्र पर ही सवाल उठा दिए और चुपके से ज’न्म लेने वाले बच्चे का डी-एन-ए टेस्ट करा लिया.सो’श’ल मी’डि’या प्लेटफॉर्म रेडिट पर बिना नाम बताए एक शख्स ने लिखा, माता-पिता उसकी पत्नी को शुरू से नापसं’द करते थे

और जब उसने बच्चे को जन्म दिया तो उन्हें उस पर भी श’क हुआ और बच्चे का डी-एन-ए टेस्ट करवाने लगे.यह मामला अमेरिका का है.मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक उस शख्स ने कहा, “मैं अपनी पत्नी सोन्या से एक रेस्टोरेंट में मिला था, जहां वह वेट्रेस के रूप में काम करती थी. आखिरकार हम दोनों को प्यार हो गया.”

“मैंने उसे अपने माता-पिता से मिलवाया और उन्होंने उससे मिलने के बाद हमारे रिश्ते के लिए स्वीकृति नहीं दी. उस व्यक्ति ने रेडिट पर लिखा, “मेरे माता-पिता सोचते हैं कि सोन्या केवल अमेरिका में अपने सपने को हासिल करने के लिए मेरा इस्तेमाल कर रही है. मैंने उनसे कहा कि यह न’स्लवादी है और मैं उनकी इस धार’णा से बहुत आ’हत हूं.”

शख्स ने बताया कि जब उसने माता-पिता को शादी की बात बताई तो वो नि’राश हो गए और अपना आशीर्वाद देने से इन’कार कर दिया.” इस वजह से,उन्होंने वहां से दूर जाने का फैसला किया और शादी में केवल अपने भाई और सोन्या के सबसे अच्छे दोस्तों को गवाह बनने के लिए आमंत्रित किया.

उस अ’ज्ञात व्यक्ति ने आगे बताया कि दो साल बाद, दं’पति ने अपने पहले बच्चे, बेबी गैरेथ को जन्म दिया जिसके दो दिन बाद उसके माता-पिता फिर से संपर्क में आए. उस शख्स ने आगे लिखा, ‘दादा-दादी नियमित रूप से बच्चे से मिलने लगे, लेकिन एक दिन उसने कुछ ऐसा सुना जिससे वह क्रो’धित हो गया.’

उस आदमी ने कहा, ‘मैंने डैड और मॉम को गैरेथ के साथ खेलते देखा और दादा को बच्चे से कहते सुना, मुझे यह पुष्टि करते हुए बहुत खुशी हो रही है कि आप वास्तव में मेरे पोते हैं”. उन्हें पता नहीं था कि उस बच्चे का पिता पीछे ही खड़ा था.

व्यक्ति ने अपनी मां से पूछा, ‘इसका क्या मतलब था?” उस शख्स ने कहा, मां ने विषय बदलने की कोशिश की. पहले माफ़ी मांगी और फिर बताया कि उन्होंने गैरेथ के डी-एनए का परीक्षण करवाया था ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वह हमारा पोता है या नहीं.

उस शख्स ने कहा, “मैं एक पल के लिए अवाक रह गया और इससे पहले कि मैं गुस्से में कोई फैसला ले लेता मैंने पिताजी से कहा कि मुझे मेरा बेटा दे दो और यहां से चले जाओ. उस व्यक्ति ने कहा कि उन्हें बच्चे की मां पर भरो’सा नहीं था क्योंकि गैरथ का चेहरा उनके परिवार से नहीं मिल रहा था.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *