बशर अल असद पर दबाव बनायेंगे जर्मनी और अमरीका

March 3, 2018 by No Comments

सीरिया की सरकार द्वारा पूर्वी गूता शहर पर की गयी बमबारी में बड़ी संख्या में नागरिक मारे गए हैं. ऐसे में सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद की चौतरफ़ा निंदा की जा रही है. इस बीच वैश्विक कम्युनिटी ने भी सीरिया के राष्ट्रपति की निंदा हो रही है. अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्कल ने माना है कि इन हमलों के लिए सीरिया के राष्ट्रपति को ज़िम्मेदार ठहराया जाना चाहिए.

दोनों नेताओं ने फ़ोन पर बात की और रूस से अपना इन्वोल्वमेंट ख़त्म करने के लिए कहा और कहा कि असद सरकार पर दबाव बनाया जाए कि वो नागरिक इलाक़ों में बमबारी ना करे. दोनों नेताओं ने माना कि राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकार को इसके लिए ज़िम्मेदार माना जाए.जर्मन सरकार द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि गूता में हुई नागरिकों पर बमबारी के लिए सीरिया की सरकार ही ज़िम्मेदार है.

गौरतलब है कि दमिश्क के पास पड़ने वाले पूर्वी गूता में सीरिया की सरकार ने बमबारी की, इस बमबारी में एक हफ़्ते के भीतर ही 500 से अधिक लोग मारे गए. मरने वालों में बड़ी संख्या में बच्चे थे. असद के ऊपर हालाँकि इन हमलों की ज़िम्मेदारी आ रही है लेकिन असद के पास रूस और ईरान जैसे देशों का समर्थन है जबकि असद से लड़ रहे विद्रोहियों को तुर्की और संयुक्त राज्य अमरीका से समर्थन मिला हुआ है। सीरिया की असद सरकार पर आरोप लग रहा है कि उसने जंग के उसूलों के ख़िलाफ़ ऐसे ठिकानों पर बमबारी की है जो आम लोगों के रहने का है। गूता में हुए इस हमले से जुड़ी तस्वीरें भी सोशल मीडिया पसर वायरल हो रही हैं। हालांकि कई जानकार इन तस्वीरों को इराक़ और दूसरी जगह की बता रहे हैं और कह रहे हैं कि ये तस्वीरें फ़ेक हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *