भारत की जनता के लिए बड़ी खुशखबरी, अब केवल 328 रुपए में मिलेगा रसोई गैस सिलेंडर, जल्दी से भरे ये फॉर्म

December 31, 2018 by No Comments

हेलो दोस्तो गैस सिलेंडर हमारे लिए एक बहुत ही अहम चीज है आज के जमाने में कोई ऐसा नहीं है जो गैस सिलेंडर इस्तेमाल नहीं करता होगा। लेकिन दिन प्रतिदिन इसकी कीमतें आसमान छू रही है। अब हर महीने आपको गैस सिलेंडर की चिक चिक परेशान नहीं करेगी ।एक भारतीय नागरिक होने के नाते मेरा फर्ज है आप तक यह खुशखबरी पहुंचाना कि जल्दी ही आप सभी को रसोई गैस ₹328 में मिलने वाली है.
दोस्तों रसोई की कीमतें आसमान छू रही है, दोस्तों आपने उज्जवल योजना के बारे में तो सुना ही होगा ।आजकल सभी महिलाएं उज्जवल योजना के तहत ही सिलेंडर लेती है लेकिन उज्जवल योजना में सिलेंडर की बढ़ती कीमतें महिलाओं पर भार बढ़ाती जा रहे हैं ऐसे में मोदी सरकार ने एक नई योजना का ऐलान किया है ।यह योजना सभी महिलाओं के लिए खुशखबरी की तरह है अगर आप भी गैस सिलेंडर की बढ़ती कीमतों से परेशान हैं तो यह खुशखबरी आपके लिए भी है.

google


328 में सिलेंडर लेने के लिए आपको केवल एक फॉर्म भरना है और गैस एजेंसी में जमा करें ऐसा करके आप 5 किलो का सिलेंडर मात्र ₹328 में ले सकते हैं इस गैस सिलेंडर पर ₹140 सब्सिडी आपको वापस मिल जाएगी। ऐसा करने से कोई भी व्यक्ति छोटी-छोटी इंस्टॉलमेंट में गैस सिलेंडर ले सकता है और वापस मिली सब्सिडी से अगले सिलेंडर का इंतजाम कर सकता है.
इस योजना का लाभ उठाने के लिए आपको अपने नजदीकी एजेंसी में इस योजना का नाम लेकर एक फॉर्म लेना होगा और उसे भरकर जमा कर देना होगा। यह योजना खासतौर पर उन औरतों के लिए है जो उज्जवल योजना से जुड़ी है । मोदी सरकार ने घर घर में गैस की पाइप लाइन लगाने की तैयारी कर ली ह। गैस पाइपलाइन कुछ खास शहरों में बिछाने की तैयारी में है.

google


उत्तर प्रदेश में महिलाओं को यह तोहफा मोदी सरकार की तरफ से खास तौर पर मिला है ।इस योजना के बाद उन महिलाओं को गैस की बढ़ती कीमतों से होने वाली परेशानियों से छुटकारा मिल जाएगा। गैस की ईन कीमतो से हर भारतीय के घर में अब गैस सिलेंडर आसानी से आ सकता है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस योजना के तहत गरीब से गरीब लोगों के घर में भी गैस सिलेंडर पहुंचाने का तरीका निकाल लिया है प्रधानमंत्री के इस तोहफे की वजह से उन महिलाओं को एक बड़ा तोहफा मिला है जिनको हर महीने 900 से 1000 में सिलेंडर भरवाना पड़ता था.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *