BHU में छात्राओं पर लाठीचार्ज निंदनीय है: मायावती

लखनऊ: बनारस हिन्दू विश्विद्यालय में छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज की कड़ी निंदा हो रही है. बसपा प्रमुख मायावती ने भी इस बारे में एक बयान जारी किया है. उन्होंने BHU के साथ-साथ उरई कालपी में आंबेडकर प्रतिमा का अनादर होने की घटना को भी दुःखद बताया है.

भाजपा का रवैया जातिवादी व दलित-विरोधी है. उन्होंने बनारस हिन्दू विश्विद्यालय में छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज पर कहा कि वह पुलिस कार्यवाही की कड़ी निंदा करती हैं. उन्होंने साथ ही उरई कालपी में डॉ भीम राव आंबेडकर की प्रतिमा के अनादर का शांतिप्रिय विरोध कर रहे लोगों पर हुई पुलिस कार्यवाई की भी कड़ी निंदा की.

राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष डॉ मसूद अहमद ने भी BHU में छात्राओं पर हुए लाठीचार्ज की निंदा की. उन्होंने कुलपति को दोषी मानते हुए बर्ख़ास्त किये जाने की मांग की.

वहीँ इस पूरे मामले पर उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा है कि BHU की घटना दुःखद है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना को गंभीरता से लिया है और बनारस के कमिश्नर रमेश नितिन गोकर्ण से इस पूरे मामले में रिपोर्ट तैयार करने को कहा है.

BHU में हुई घटना के विरोध में सोमवार को लखनऊ विश्विद्यालय में भी हस्ताक्षर अभियान चलाया गया. छात्र-संघठन स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने इस अभियान को चलाया. तक़रीबन दो घंटे चले इस अभियान में छात्रों ने बड़ी संख्या में हिस्सा लिया. यूथ कांग्रेस ने भी इसको लेकर लखनऊ में प्रदर्शन किया. यूथ कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने बनारस की छात्राओं के समर्थन में अपने बाल मुंडवाए. राजधानी दिल्ली के जंतर-मंतर पर भी सोमवार को एक बड़ा विरोध प्रदर्शन हुआ. BHU की छात्राओं के समर्थन में आम आदमी पार्टी, कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, बसपा, राजद तथा अन्य दलों आगे आये हैं.

गौरतलब है कि बनारस हिन्दू विश्विद्यालय में छेड़खानी का विरोध कर रहे छात्र-छात्राओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया. छात्राओं पर लाठीचार्ज भी पुरुष पुलिस ने ही किया. इतना ही नहीं पुलिस ने लड़कियों के हॉस्टल में घुस कर उन्हें पीटा. कुलपति जीसी त्रिपाठी इतना होने पर भी छात्र-छात्राओं से बात करने को तैयार नहीं हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.