बिहार: NDA की मुश्किलों में इज़ाफ़ा, उपेन्द्र कुशवाहा ने इस विपक्षी नेता से की मुलाक़ात

November 13, 2018 by No Comments

बिहार की सियासत मे एक के बाद एक आरोप-प्रत्यारोप के साथ साथ उथल पुथल जारी है।आरएलएसपी के दोनों विधायक उपेंद्र कुशवाहा का साथ छोड़कर नीतीश कुमार का दामन थामने जा रहे हैं। इन्ही सब चर्चाओं के साथ इसी आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने सोमवार को जेडीयू के बागी नेता शरद यादव से मुलाकात की है। शरद पवार से मुलाकात के बाद उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा।उन्होंने कहा कि नीतीश हमारे MLA को तोड़ने की कोशिश कर रहे और पता नहीं वो मुझे क्यों बर्बाद करने पर तुले हैं।उन्होंने कहा कि अभी हम NDA में, नीतीश को ऐसा नहीं करना चाहिए। और तो और यह भी कहा कि,हमारे पार्टी के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज करना गलत है।जानकारी के लिए आपको बता दे कि,नीतीश कुमार ने हाल ही में उपेंद्र कुशवाहा को नीच तक कह दिया था।इसके बाद कुशवाहा समाज के लोगों ने सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ प्रदर्शन किया था। प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने कुशवाहा समर्थकों पर लाठीचार्ज कर दिया था।इस दौरान कई समर्थक घायल भी हो गए थे।

उपेंद्र कुशवाहा की शरद यादव से इस मुलाकात के बाद इसको लेकर अटकलें तेज हो गई कि नीतीश बढ़ती कटुता और सीटों के प्रस्तावित बंटवारे के प्रति आपत्तियों को लेकर वह लोकसभा चुनाव से पहले खेमा बदल सकते है।वही केंद्रीय मंत्री कुशवाहा ने हालांकि इस बैठक को शिष्टाचार मुलाकात बताया।शरद यादव पिछले साल नीतीश कुमार के बीजेपी से हाथ मिलाने के बाद जेडीयू से अलग हो गए थे। वह बीजेपी के नेतृत्व वाले सत्ताधारी एनडीए के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने पर काम कर रहे हैं।यह कोई पहली बात नही है,कुशवाहा ने कुछ समय पहले बिहार में आरेजेडी नेता तेजस्वी यादव से मुलाकात की थी।

आरएलएसपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में तीन सीटों पर चुनाव लड़ा था और सभी पर जीत दर्ज की थी, हालांकि उसे दो सीटें से अधिक छोड़े जाने की उम्मीद नहीं है।कुशवाहा ने कहा है कि वह नीतीश कुमार द्वारा किये गए अपमान के बारे में अमित शाह को अवगत कराएंगे उनसे यह भी कहेंगे कि वह बीजेपी और उसके सहयोगी दलों के बीच सीट बंटवारे को लेकर भ्रम की स्थिति को जल्द दूर करें।सूत्रों ने कहा है कि इसकी संभावना कम है कि बीजेपी नीतीश कुमार को नाराज करेगी क्योंकि पार्टी उनके साथ गठबंधन को राज्य में एनडीए के भविष्य के लिए महत्वपूर्ण मानती है।

जैसा कि हम सब जानती है कि बिहार में नीतीश कुमार हो कुशवाहा के बीच में तकरार बनी रहती है दोनों के बीच के रिश्ते कभी भी सुलझते नहीं है।जब से नीतीश की एनडीए में वापसी हुई है तभी से उपेंद्र असहज महसूस करते हैं। इस बीच जब भाजपा और जेडीयू ने यह घोषणा की कि अगले लोक सभा चुनाव में दोनों पार्टियां बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगी तो उपेंद्र और असहज हो गए।इसीलिए वे अब जेडीयू से अलग होकर जेडीएएल बनाने वाले शरद यादव से मदद की उम्मीद लगा रहे हैं। देखना यह है कि लोकसभा 2019 के चुनाव के पहले इन पार्टियों में किस तरह का चुनावी माहौल बनता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *