आज हुए विधानसभा चुनाव तो क्या बिहार में ये होगी स्थिति

September 29, 2018 by No Comments

देश में अगले साल लोकसभा चुनाव होने हैं. इन चुनावों में हिन्दी बेल्ट के कुछ राज्यों का बहुत महत्त्व है जिसमें से बिहार एक है. बिहार में इस समय नितीश कुमार की सरकार है.जदयू नेता नितीश के नेतृत्व वाली सरकार को भाजपा का समर्थन है और अभी इसको लेकर बड़ी चर्चाएँ हैं कि आने वाले लोकसभा चुनाव में बिहार की सियासत किस ओर रहती है.

कौन सी पार्टी यहाँ अधिक सीटें जीत कर लाती है. आज मगर हम बात करने जा रहे हैं विधानसभा चुनाव की. बिहार में 2020 में विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में इसको लेकर भी पार्टियाँ संजीदा हैं. बिहार की सियासत में कई राजनीतिक पार्टियों का दख़ल है जिसमें राजद और जदयू प्रमुख हैं. देखा जाए तो ‘मोदी लहर’ से भाजपा को बिहार में सीटें ठीक-ठाक मिल गयीं थीं लेकिन अब वो बात रहती है या नहीं ये आने वाला समय ही बतायेगा.

आने वाले विधानसभा चुनाव में कौन सी पार्टी किस पोजीशन पर रहती है इस बारे में हमने कुछ लोगों से चर्चा की. चर्चा के दौरान एक बात खुल कर सामने आयी है कि राजद एक बार फिर से सबसे बड़ी पार्टी बनेगी. अधिकतर लोगों ने हमें कहा कि वो इस बात से नाराज़ हैं कि राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव पर कार्यवाही की जा रही है. उनका मानना है कि सरकार द्वेष की भावना से लालू और उनके परिवार को परेशान कर रही है.

मुख्यमंत्री पद पर पहली पसंद तेजस्वी यादव नज़र आते हैं जबकि दूसरे नंबर पर नितीश कुमार हैं. सुशील मोदी को जनता बहुत पसंद नहीं कर रही है. युवाओं में तेजस्वी को बड़े स्तर पर समर्थन प्राप्त है. तेजस्वी यादव की पॉपुलैरिटी का ग्राफ़ जिस तरह से बढ़ रहा है उसके बाद नितीश कुमार कैम्प को चिंता हो सकती है. राजद+कांग्रेस+एनसीपी+हम मिलकर आने वाले विधानसभा चुनाव में 150 से अधिक सीटों पर विजयी हो सकते हैं.

बिहार में सबसे बड़ा नुक़सान भाजपा को होने की उम्मीद है. भाजपा की अभी 53 सीटें हैं लेकिन जानकार मानते हैं कि अब ये आधी तक हो सकती हैं. जदयू को भी इस चुनाव में भारी नुक़सान होने की उमीद है. सबसे बड़ा फ़ायदा राजद और जदयू को ही होने वाला है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *