ओवैसी को उन्ही के गढ़ में हराने के लिए भाजपा ने अपनाई ये रणनीति,AIMIM ने भी कमर कसी

November 4, 2018 by No Comments

हैदराबाद:तीन नवम्बर भारतीय जनता पार्टी ने हैदराबाद की चंद्रयानगुट्टा विधानसभा सीट से ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के शीर्ष नेता अकबरुद्दीन ओवैसी का मुकाबला करने के लिए एक मुस्लिम महिला उम्मीदवार सैयद शहज़ादी को चुनाव मैदान में उतारा है। सात दिसंबर को होने वाले चुनाव में चंद्रयान गुट्टा विधानसभा क्षेत्र से एआइएमआइएम के अकबरुद्दीन ओवैसी के खिलाफ भाजपा ने मुस्लिम महिला प्रत्याशी को मैदान में उतारा है वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की नेता रह चुकीं है और तेलंगाना के आदिलाबाद की रहने वाली हैं। दरअसल इस सीट से अकबरुद्दीन 1999, 2004, 2009 और 2014 में विधायक चुने गए।

भाजपा महिला उम्मीदवार सैयद उस्मानिया यूनिवर्सिटी हैदराबाद से राजनीतिक विज्ञान में पोस्ट–ग्रेजुएट हैं। सैयद का आरोप है कि चंद्रयान गुट्टा और अन्य सीटों पर जहां एआईएमआईएम के विधायक हैं वहां, स्थानीय लोगों के हालातों में कोई सुधार नहीं हुआ।सैयद का मानना है कि वे लोगों के बीच केंद्र सरकार की योजनाओं को लाकर उनके बेहतरी के लिए काम कर सकती हैं। उन्होंने कहा, “मैं पूछना चाहती हूं कि ओवैसी ने लोगों के लिए क्या काम किए? उनके जीवन में क्या परिवर्तन आया? और उनमें से कितने लोगों को रोजगार मिला? कितने बच्चे डॉक्टर और इंजीनियर बने?शहजादी ने आरोप लगाया कि हैदराबाद के पुराने शहर में एक सांप्रदायिक माहौल बना दिया गया है। सामान्य मुसलमानों समेत आम लोगों के जीवन में कोई बदलाव नहीं आया है।

अकबरुद्दीन ओवैसी एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी के छोटे भाई हैं। वह हाल में भंग हुई पहली तेलंगाना विधानसभा में एआईएमआईएम विधायक दल के नेता थे। बता दे तेलंगाना में 119 विधानसभा सीटों के लिए 7 दिसंबर को मतदान होना है। नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे। राज्य के गठन के बाद यहां मई 2014 में पहली विधानसभा चुनाव हुए थे। सरकार का कार्यकाल मई 2019 में पूरा होना था। लेकिन मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव नहीं चाहते थे। इसलिए उन्होंने सितंबर में ही विधानसभा भंग कर दी थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *