भाजपाई आज़म की छवि से बौखलाए हुए हैं: सपा

October 19, 2018 by No Comments

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव खुलकर अपने वरिष्ठ नेता आजम खां के पक्ष में आ गये है । अखिलेश ने आजम खां द्वारा कराए विकास कार्यों को सराहते हुए कहा कि उनसे चिढ़ी हुई भाजपा बदले की भावना से कार्य कर रही है।

अखिलेश ने भाजपा पर लगाए गंभीर आरोप
अखिलेश ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार सपा के वरिष्ठ नेताओं के प्रति विद्वेषपूर्ण प्रचार कर उनकी छवि बिगाड़ने में लगी है.  अखिलेश ने कहा कि राजनीति में धर्मनिरपेक्ष छवि, कुंभ जैसे महापर्व का कुशल संचालन तथा जौहर विश्वविद्यालय जैसी संस्था की स्थापना से चिढ़े हुए भाजपा नेता आजम खान को बदनाम करने और राजनीतिक उत्पीड़न करने की साजिश रच रहे हैं.

आजम खान के खिलाफ एफ आई आर दर्ज करवा चुके हैं अमर सिंह
दरअसल अमर सिंह 30 अगस्त को रामपुर गए थे और खान से कहा था कि उनकी ‘बलि’ ले लें लेकिन उनकी बेटियों को छोड़ दें. अपनी बेटियों पर तेजाब फेंकने की धमकी देने के मामले में आजम खान के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिये गोमती नगर पुलिस थाने में प्रार्थना-पत्र दिया था.’पुलिस ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री के खिलाफ एफआईआर दर्ज किये जाने की पुष्टि की है.

पुलिस ने कहा कि सिंह के प्रार्थना-पत्र पर आजम खान के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. तहरीर पर पुलिस ने आजम खान के खिलाफ धर्म, भाषा व नश्ल के आधार पर टिप्पणी करने सहित लोगों में नफरत फैलाने, राष्ट्र की अखंडता प्रभावित करने और जान से मारने की धमकी देने की भी एफ.आई.आर. दर्ज की है। इनमें धारा 153ए, 295ए और 506 शामिल हैं.

अखिलेश ने आजम खान को बताया सबसे बड़ा धर्मनिरपेक्ष
सपा सुप्रीमो ने अपने बयान में कहा कि, “समाजवादी सरकार में आजम खान को कुंभ के आयोजन की जिम्मेदारी दी गई थी और उन्होंने आयोजन को सफलतापूर्वक संपन्न कराया. इसकी प्रशंसा विदेशों तक में हुई. कुंभ पर्व पर उन्होंने जनता को तमाम सुविधाएं दी थीं. धर्मनिरपेक्षता का इससे बड़ा प्रमाण और क्या हो सकता है?”

भाजपा, समाजवादी नेतृत्व को कर रही है बदनाम

सपा सुप्रीमो ने अपने बयान में कहा कि हमारी यह मांग है कि ‘आजम खान की जिंदगी को खतरा देखते हुए उन्हें पर्याप्त सुरक्षा दी जाए, बदले की भावना से उनके खिलाफ दर्ज कराई गई एफआईआर रद्द की जाए, सपा नेताओं के विरुद्ध राजनीति से प्रेरित सभी फर्जी मुकदमे वापस लिए जाएं. समाजवादी नेतृत्व को बदनाम करने की कोशिशों को समाजवादी पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी’.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *