यूपी:भाजपा इन दिग्गज सांसदों को नही देगी टिकट,पार्टी में मची खलबली

February 20, 2019 by No Comments

एक तरफ जहां जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आ’तंकी ह’मले के चलते मीडिया में इस वक्त इसी से जुड़ी ख़बरें छाई हुई है।वहीँ आने वाले लोकसभा चुनाव के चलते राजनीतिक गतिविधियों को भी आगे बढ़ाया जा रहा है।इस वक्त उत्तर प्रदेश से भारतीय जनता पार्टी से जुडी एक बड़ी खबर सामने आ रही है।
खबर के मुताबिक,भारतीय जनता पार्टी इस लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में बड़ी संख्या में मौजूदा सांसदों के टिकट काट सकती है।पार्टी में उन नेताओं की टिकट काटने का फैसला लिया जा रहा है।जिनकी निचले स्तर पर छवि काफी खराब रही है।आपको बता दें कि पूर्वांचल में लगभग 41 संसदीय क्षेत्र आते हैं और इस वक्त यहां से कई मौजूदा सांसदों की सीट खतरे में आ गई है।


बीजेपी


पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जौनपुर से बीजेपी सांसद के पी सिंह इस क्षेत्र के वह नेता है।स्थानीय जनता के काम करने के मुद्दे पर बहुत ही कम सक्रिय पाए गए हैं और जनता में उनकी व्यक्तिगत छवि बिल्कुल शून्य के बराबर है।वही जौनपुर जिले की ही लोक सभा सीट मछली शहर से बीजेपी नेता रामचरित्र निषाद का टिकट भी काटा जा सकता है।
इनकी टिकट काटे जाने के पीछे भी यही कारण है कि इन्होंने जनता के बीच जाकर कभी अपने सक्रिय छवि नहीं बनाई।वहीं इनके जाति प्रमाण पत्र को लेकर विवाद चल रहा है।बस्ती से भाजपा सांसद हरीश द्विवेदी की छवि भी पार्टी में बहुत अच्छी नहीं बताई जा रही उन्नाव के सांसद साक्षी महाराज का टिकट काटने की खबरे आ रही है.
इससे पहले बहराइच से बीजेपी नेता सावित्री बाई फुले पहले ही पार्टी से इस्तीफा दे चुकी हैं।रॉबर्ट्सगंज से सांसद छोटेलाल खरवार का भू माफिया से संबंध उनकी टिकट को खतरे में डाल सकता है।हालांकि इस मामले में अंतिम फैसला पार्टी के संसदीय बोर्ड द्वारा ही किया जाएगा।


बीजेपी


यानी कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह तय करेंगे कि किन नेताओं को इस बार पार्टी टिकट दी जाएगी और किन की टिकट काटी जाएगी।आपको बता दें कि पूर्वांचल बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक़ सपा-बसपा के गठजोड़ के साथ-साथ प्रियंका की इस क्षेत्र में सीधी दखल बढ़ जाने के कारण इस बार चुनौती बढ़ गई है। जिसके चलते बीजेपी किसी भी तरह का कोई रिस्क नहीं लेना चाहती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *