अमित शाह ने राज्यसभा में किया GST का बचाव-‘गब्बर सिंह टैक्स’ तो मत कहो ना..

February 5, 2018 by No Comments

नई दिल्ली: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज राज्यसभा में अपनी पार्टी का पक्ष रखते हुए कहा कि भाजपा ने कभी GST का विरोध नहीं किया था, इसके तरीक़ों का विरोध किया था..UPA ये कर सुधार लेके आई, सेस घटाने से राज्यों को नुक़सान हुआ, वो UPA को चुकाना था, पर नहीं चुकाया,37000 करोड़ NDA ने चुकाया.

शाह ने कहा कि सबकी मर्ज़ी से फ़ैसला हुआ है और शब्द क्या दिया? ‘गब्बर सिंह टैक्स’, कौन है गब्बर सिंह? शोले फ़िल्म में डकैत का नाम था, क़ानून से बना हुआ टैक्स वसूलना डकैती है क्या?

उन्होंने कहा,”पूरी दुनिया में जितने भी लोकतंत्र हैं, उन सब की योजनाओं को कोई खंगाल कर देख ले, 50 करोड़ लोगों को बीमा सुरक्षा देना, किसी भी सरकार में ये साहस नहीं है, आयुष्मान भारत को अब ‘नमो हेल्थ केयर” के नाम से ये जनता जानेगी”.शाह ने इस पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के ट्वीट पर भी टिपण्णी की, उन्होंने कहा,”अभी मैं चिदंबरम साहब का ट्वीट पढ़ रहा था कि ‘मुद्रा बैंक के साथ किसी ने पकौड़े का ठेला लगा दिया, इसको रोज़गारी कहते हैं?’ हाँ, मैं मानता हूँ कि भीख मांगने से तो अच्छा है कि कोई मज़दूरी कर रहा है. उसकी दूसरी पीढ़ी आगे आएगी तो उद्योगपति बनेगी.”

शाह ने आगे कहा कि सरकार ने जब काम-काज संभाला, तब सरकार के पास विरासत में क्या था? जिस प्रकार का गड्ढा था, वो गड्ढा भरने में ही सरकार का बहुत सारा समय गया है और गड्ढा भरने के बाद इन उपलब्धियों को एक अलग नज़रिये से देखें. उन्होंने साथ ही ये भी कहा कि सभी चुनाव एक साथ होने चाहियें.

शाह ने कहा,”चुनाव एक साथ होने चाहिए. पंचायात से लेकर पार्लियामेंट के चुनाव अगर एक साथ होते हैं, तो काफ़ी ख़र्च में भी बचत होगी और बार-बार आचार संहिता आती है, इसके कारण विकास की बाधा भी समाप्त होगी.”

Tags: ,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *