हार्दिक पटेल और कांग्रेस के बीच हुई मीटिंग से भाजपा परेशान

गांधीनगर: गुजरात चुनाव को लेकर अब ये लगभग साफ़ हो गया है कि पाटीदार नेता हार्दिक पटेल कांग्रेस पार्टी को समर्थन देंगे. उनके समर्थन के संकेतों से कांग्रेस बहुत उत्साहित है. असल में कल कांग्रेस नेताओं और पाटीदार नेताओं के बीच वार्ता हुई. इस मीटिंग में उन सभी मुद्दों पर चर्चा हुई जिनकी मांग पाटीदार नेता करते रहे हैं.

बताया जा रहा है कि मुख्यता से चार मुद्दों पर चर्चा हुई है. इसमें पाटीदारों को आरक्षण और पाटीदारों के ख़िलाफ़ चल रहे मुक़दमों की वापसी प्रमुख है. अहमदाबाद में हुई इस मीटिंग के बाद राजकोट में हार्दिक ने पत्रकारों से बताया कि मीटिंग बहुत अच्छे माहौल में हुई. इस मीटिंग में हुई सकारात्मक बातचीत से ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि हार्दिक कांग्रेस को समर्थन देंगे.

पटेल ने इस बारे में कहा कि कांग्रेस ने बताया है कि पाटीदारों के प्रदर्शन में जिन लोगों की मौत हुई है उसे कांग्रेस सरकार बनने पर 35 लाख रूपये का मुआवज़ा देगी और पाटीदारों को संविधान के अनुसार आरक्षण की व्यवस्था की जायेगी. पटेल ने बताया कि एक आयोग का भी गठन किये जाने की बात हुई है जिसके लिए 2000 करोड़ का बजट रखा जाएगा.

इस मीटिंग के बाद गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने एक प्रेस कांफ्रेंस करके कहा कि जिन मुद्दों पर पाटीदार नेताओं और कांग्रेस के बीच बात हो रही है उन पर पहले ही भाजपा सरकार काम कर रही है. उन्होंने कहा कि गुजरात की भाजपा सरकार पहले ही पिछड़ों को आरक्षण दे रही है और जो 12 लोग विरोध प्रदर्शनों में मरे हैं उनके परिवारजनों को हमने 20-20 लाख का मुआवज़ा दिया है.

ऐसा माना जा रहा है कि हार्दिक और कांग्रेस के क़रीब आने से भाजपा को बड़ा झटका लगा है और उसके लिए इस चुनाव में जीतना मुश्किल हो गया है. हार्दिक और कांग्रेस में चल रहे मीटिंग के दौर से भाजपा नेता ख़ासे परेशान नज़र आ रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.