लोकसभा चुनाव से पहले बुरी तरह पिछड़ रही है भाजपा और कांग्रेस में दिख रही है नई जान

February 8, 2018 by No Comments

लगातार इस तरह की अटकलें चल रही हैं कि अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में विपक्ष पूरी एकजुटता के साथ चुनाव लड़ेगा। हालांकि अभी ये कहना जल्दबाज़ी है पर ऐसा होने की स्थिति में सत्ता पर क़ाबिज़ भाजपा के लिए मुश्किल बढ़ जाएगी।गुजरात में हुए विधानसभा चुनाव और राजस्थान में हुए लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव के बाद भाजपा में ख़लबली सी मची हुई है और अंदरूनी सूत्र ये बताते हैं कि पार्टी में जबरदस्त नाराज़गी है। चुनाव आते आते पार्टी के सहयोगी दल भी नाराज़ होते जा रहे हैं।

शिवसेना की नाराज़गी किसी से छुपी नहीं है, वहीं दूसरी ओर आंध्र प्रदेश की तेलुगु देशम पार्टी भी राज्य को स्पेशल स्टेटस ना मिलने की वजह से नाराज़ दिख रही है। उत्तर प्रदेश में पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने शानदार जीत दर्ज की थी लेकिन भाजपा सरकार के ख़िलाफ़ युवाओं में ज़बरदस्त नाराज़गी है। इसके बावजूद भाजपा को जिस मुद्दे का सहारा है वो हिंदुत्व है। पार्टी लगातार हिंदुत्व के मुद्दे पर चुनाव लड़ती रही है और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की वकालत करती रही है। दलित और ओबीसी समाज की नाराज़गी फिर भी भाजपा को भारी पड़ सकती है। इसके अलावा कांग्रेस पार्टी की कमान जब से राहुल गांधी ने संभाली है पार्टी नए रंग में ही दिख रही है।

राहुल के कमान संभालने के बाद ही गुजरात में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे कांग्रेस की अपेक्षा से बेहतर आये हैं वहीँ राजस्थान उपचुनाव में पार्टी की अप्रत्याशित जीत से कांग्रेस बिलकुल ही नए रंग में नज़र आ रही है. राजस्थान की अजमेर और अलवर लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में भाजपा को कांग्रेस के हाथों बड़ी शिकस्त मिली. अब ये देखने की बात होगी कि भाजपा कैसे कांग्रेस के इस नए रूप का मुक़ाबला कर पाती है और किस तरह से अपने सहयोगियों को साथ रख पाती है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *