कर्नाटक में दलितों ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को दिखाए काले झंडे

February 26, 2018 by No Comments

कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव के चलते बीजेपी और कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा राज्य के दौरे का सिलसिला शुरू हो गया है।
कल बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी कर्नाटक के बिदर, गुलबर्गा और यादगीर जिलों की तीन दिवसीय यात्रा पर आये थे। इस दौरान अमित शाह को दलित समुदाय के विरोध का सामना करना पड़ा, उन्हें काले झंडे दिखाए गए। दरअसल अमित शाह कालाबुर्गी में अनुसूचित जाति के श्रमिकों की एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। एनवी कॉलेज परिसर में प्रवेश करने के दौरान दलित संघर्ष समिति (डीएसएस) के सदस्यों ने शाह के काफिले का रास्ता रोकने की कोशिश की और काले झंडे दिखाए।
ये लोग बीजेपी नेता अनंत हेगड़े द्वारा दिए गए उस बयान का विरोध कर रहे थे, जिसमें उन्होंने देश के संविधान को बदलने की बात कही थी।
जैसे ही अमित शाह की जनसभा शुरू हुई और उन्होंने बोलना शुरू किया। वहां उपस्थित लोगों में से कुछ ने तब नारे लगाने और कथित तौर पर काले झंडे दिखाने शुरू कर दिए। पुलिस ने तुंरत 10 लोगों को हिरासत में ले लिया था। वहीँ इस विरोध के लिए शाह ने कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया। अमित शाह ने प्रदर्शनकारियों का जवाब देते हुए कहा- ”यह कांग्रेस की संस्कृति है। चिंता न करें, सरकार बदल रही है।
शाह ने कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार को गैरजिम्मेदार, असंवेदनशील करार देते हुए कहा कि कांग्रेस शासन के दौरान राज्यभर में 3,000 से ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की है, लेकिन मुख्यमंत्री तुष्टीकरण की राजनीति में बिजी हैं।

आपको बता दें कि अपने बयानों के चलते विवादों में रहने वाले बीजेपी नेता अनंत हेगड़े ने बीते दिनों कर्नाटक में एक कार्यक्रम में कहा था ”संविधान को समय-समय पर बदला जाना चाहिए और हम ऐसा करने किए आए हैं…, जो लोग धर्मनिरपेक्ष और प्रगतिशील होने का दावा कर रहे हैं, वे अपने माता-पिता और उनके खून की पहचान नहीं रखते हैं। इस तरह की पहचान के जरिए आत्म सम्मान मिलेगा।”
जिसके लिए काफी आलोचना का सामना करने के बाद उन्हें अपने बयान पर संसद में माफी मांगनी पड़ी थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *