मुस्लिम संघठनो को बड़ा झटका ,सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ख़ारिज की,अब मोदी सरकार…

November 2, 2018 by No Comments

तीन तलाक कानून का विरोध कर रहे मुस्लिम संघठनो को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है.गौरतलब है कि मुस्लिम संघठन तीन तलाक का विरोध कर रहे है.केंद्र सरकार ने तीन तलाक को गैरकानूनी करार देते हुए एक कानून बनाया है जिसको मुस्लिम संघठनो ने चुनौती दी थी.लेकिन देश की सर्वोच्य अदालत ने याचिका को ख़ारिज कर दिया.

जाने मामला…
3 तलाक पर केंद्र सरकार के अध्यादेश को चुनौती देने वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है.केरल स्थित मुस्लिम संगठन समस्त केरल जमीयतुल उलेमा ने तीन तलाक के अध्यादेश की संवैधानिक वैधता को चुनौती देते हुए इसे निरस्त करने का अनुरोध किया था.मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ इस मामले की सुनवाई कर रही थी.

बता दें कि मुस्लिम महिला (विवाह के अधिकारों का संरक्षण) अध्यादेश 19 सितंबर को अधिसूचित किया गया था.इससे पहले, इस अध्यादेश को मंत्रिपरिषद ने मंजूरी दी थी.‘तलाक-ए-बिद्दत’ के नाम से प्रचलित एक बार में तीन तलाक की प्रथा में एक मुस्लिम शौहर एक ही बार में तीन बार तलाक-तलाक-तलाक कहकर अपनी पत्नी को तलाक दे सकता है.

पिछले महीने जारी अध्यादेश के अंतर्गत तीन तलाक को गैरकानूनी और शून्य घोषित करते हुए इसे दंडनीय अपराध घोषित कर दिया गया है.ऐसा करने पर पति को तीन साल की जेल की सजा हो सकती है.हालांकि इस कानून के दुरुपयोग की आशंका को दूर करते हुए सरकार ने इसमें आरोपी के लिए जमानत का प्रावधान करने जैसे कुछ सुरक्षा उपाय भी किए हैं.

लेकिन इसके बाद भी मुस्लिम तंजीमे और मुस्लिम महिलाये इस कानून का विरोध कर रहे है.कई मुस्लिम संघटनो ने इस कानून को ना मानने की बात एलानिया तौर पर की है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *