बसपा ने एक और सूची ज़ारी की,इन दिग्गजों को मिला टिकट

April 7, 2019 by No Comments

राजस्थान में BSP ने प्रदेश की छह सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है.इन सीटों पर घोषित हुए उम्मीदवारों की सूचीं में शामिल दो नामों ने चौंकाया है.BSP इस बार पूर्व IPS अफसर और उनकी पत्नी को टिकट थमाकर चुनाव मैदान में उतार रही है.घोषित हुई इस ताज़ा सूची में चित्तौड़गढ़,पाली,जालोर-सिरोही,बाड़मेर,जोधपुर और जयपुर शहर से उम्मीदवार फाइनल किये गए हैं.
जानकारी के अनुसार बसपा ने बाड़मेर से पूर्व आईपीएस अधिकारी पंकज चौधरी को टिकिट थमाया है.चौधरी पहले ही इस बार का लोकसभा चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुके हैं.यही नहीं पंकज चौधरी की पत्नी मुकुल चौधरी पर भी बसपा पार्टी ने भरोसा जताया है.उन्हें जोधपुर शहर से उम्मीदवार बनाया गया है.

इनके अलावा चित्तौड़गढ़ से डॉ जगदीश चंद्र शर्मा,जालौर से भागीरथ विश्नोई,पाली से शिवाराम मेघवाल,जयपुर शहर से पूर्व आईएएस उमराव सालोदिया को टिकिट देकर उम्मीदवार बनाया गया है.राजस्थान में लोकसभा चुनाव 2019 के लिए बसपा पांच नामों की पहली सूची पहले ही जारी कर चुकी है.शनिवार को छह नामों की दूसरी सूची के साथ अब तक पार्टी ने 11 नामों का ऐलान कर दिया है.
पहली सूची में उदयपुर,अलवर,कोटा,झालावाड़ और अजमेर सीट शामिल थीं.पार्टी ने अलवर से इमरान खान,कोटा से हरीश कुमार,झालाबाड-बांरा से डॉ बद्री प्रसाद,उदयपुर से केशुलाल,अजमेर से कर्नल दुर्गालाल को प्रत्याशी बनाया हैबता दें कि विधानसभा चुनाव के बाद फिर से प्रदेश में अकेले चुनाव लडऩे की ओर बढ़ रही बहुजन समाज पार्टी ने प्रदेश के सभी 25 लोकसभा क्षेत्रों में उम्मीदवार खड़े करने की घोषणा की है.

मायावती


बता दें कि बसपा विधानसभा चुनाव 2018 के सियासी रण में उतर कर बीजेपी-कांग्रेस का चुनावी गणित बिगाड़ चुकी है.बसपा के कारण किसी इलाके में भाजपा को सीट का नुक़सान झेलना पड़ा तो किसी इलाके में कांग्रेस को भी अपनी सीट गंवानी पड़ी.मिसाल के तौर पर अलवर जिले की 11 में से 5 सीटें कांग्रेस ने जीतीं,लेकिन किशनगढ़ बांस में सांसद डॉ. कर्णसिंह यादव को बसपा ने ही हरा दिया.
भाजपा इस जिले में महज दो सीट पर सिमट गई.जबकि भरतपुर में बसपा के चलते भाजपा खाता भी नहीं खोल सकी। ऐसी स्थिति कई सीटों पर देखने को मिली.साथ ही पार्टी लोकसभा चुनावों में खुद को कई सीटों पर मजबूत मानकर चल रही है.इनमें अलवर,भरतपुर,धौलपुर,झुंझुनूं,दौसा,चूरू,नागौर और जयपुर ग्रामीण शामिल हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *