गठबंधन के बाद बसपा ने टिकटों को बाटना शुरू किया,इस दिग्गज नेता को मिला पहला टिकट

January 22, 2019 by No Comments

2019 का चुनाव जैसे,जैसे करीब आ रहा है वैसे वैसे सभी पार्टियां काफी सक्रिय दिखाई दे रही हैं हर कोई अपनी सरकार बनाने की मुहिम में लगा है अधिकतर पार्टियां भाजपा की सरकार को हराने की हर तरीके से योजना बना रही हैं यहां तक कि सपा और बसपा गठबंधन करने से भी पीछे नहीं हटी उनका मानना है कि इस गठबंधन की वजह से वह मोदी लहर को खत्म कर देगी और नई सरकार की नींव रखेगी।
दोस्तों सपा बसपा गठबंधन के समय यूपी में 38-38 सीटों की बात हुई थी।अब बहुजन समाजवादी पार्टी की मुखिया व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने धमाकेदार तरीके से प्रत्याशियों के नाम की घोषणा करनी शुरू कर दी है और इसकी शुरुआत उन्होंने बुंदेलखंड से की है।बुंदेलखंड की चार में से एक हमीरपुर महोबा तिंदवारी सीट पर प्रत्याशी की घोषणा कर दी गई है।

google


पार्टी ने दिलीप कुमार सिंह को लोकसभा चुनाव के लिए प्रभारी बनाने का ऐलान कर दिया है और यह सभी जानते हैं कि बसपा में लोकसभा प्रभारी को ही पार्टी का प्रत्याशी बनाया जाता है।बीएसपी सुप्रीमो मायावती के निर्देश पर बुंदेलखंड प्रभारी व मुख्य जॉन इंचार्ज लाल राम अहिरवार ने दिलीप कुमार सिंह को लोकसभा प्रभारी बनाए जाने की घोषणा कर दी। उनका मानना है कि सपा बसपा गठबंधन द्वारा भाजपा को हराया जा सकता है.
हमीरपुर महोबा सीट से प्रत्याशी की घोषणा के बाद लोगों की नजर अब बुंदेलखंड की बाकी की 3 सीटों पर है कहा जा रहा है कि इनमें से 2 सीटें सपा को जाएंगे। लेकिन कौन सी सीट किस के खाते में जाएगी यह तो आने वाला समय ही बताएगा लेकिन सीट को हथियाने की जोड़-तोड़ चरम पर है।
दोस्तों 2014 में बुंदेलखंड की चारों सीटें मोदी लहर के कारण भाजपा की झोली में आ गई थी उस समय सपा बसपा प्रत्याशियों के वोट भाजपा से ज्यादा थे। इन 4 सीटों में से 1 सीटें भाजपा की उमा भारती को सबसे ज्यादा वोट मिले थे सपा दूसरे नंबर पर और बसपा तीसरे नंबर पर थी और ज्योति सीट पर भाजपा के भैरो सिंह को सांसद चुना गया था।

200 2014 में जो हुआ सो हुआ 2019 में सपा बसपा गठबंधन क्या रंग लाएगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा लेकिन प्रयासों को देखकर कहा जा सकता है कि भाजपा की हाल बिगड़ने वाली हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *