बुलंदशहर केस को लेकर ओवैसी ने योगी की जमकर कि खिचाई, कहा -"तुम पहले अपना…"

December 18, 2018 by No Comments

योगी आए और बोले असदुद्दीन ओवैसी को हैदराबाद से भगा दूँगा। योगी जी आपके शहर में आप ही के पुलिस ऑफिसर को गौ रक्षकों ने उसी की रिवाल्वर से उसके सर में मार दिया। वहां जाकर मामला सुलझाओ यहां आप की दाल गलने वाली नहीं है। हम ना तो भाग जाएंगे ना तुम से डरेंगे ना तुम्हारी सोच से डरेंगे, ना मोदी से डरेंगे ना अमित शाह से डरेंगे.
याद रखो हम सिर्फ अल्लाह से डरने वाले लोग हैं और यह भी याद रखे हैं इनका मकसद एक ही है कि जिस तरीके से उत्तर प्रदेश बिहार और बंगाल में लोगों को सियासी तौर पर लाचार और यतीम बना दिया यह हम लोगों को भी वैसा ही बनाना चाहते हैं लोग पूछते हैं कि मजलिस क्या है? मजलिस लो है जो अक्टूबर 20 को बिहार में सीतामढ़ी में अंसारी साहब जो कि 80 साल के थे उस गरीब को मजलिसी जुलूस में मारकर खत्म कर दिया गया.

google


और उसके बाद शैतानों ने उनके जिस्म को जला दिया उस बेचारे बुरे की लाश रोड पर पड़ी रही तब मुझे किसी ने फोन करके कहा कि हम बिहार से बात कर रहे हैं तब मैंने कहा कि आप के लहजे से मैं समझ गया कि आप बिहार से ही है तब मैंने उनसे पूछा कि बताइए आप ने मुझे कैसे याद किया ऐसा क्या काम आ पड़ा तो उन्होंने जवाब दिया कि मेरे घर से 20 कदम की दूरी पर मैंने यह नजारा देखा एक 80 साल के बूढ़े को मार दिया गया.
पहले तो उस बूढ़े को मार कर चले गए लेकिन फिर वापस आकर उस बोले के जिस्म को जला भी दिया। मैंने आपको फोन इसलिए किया है कि आप हमारे एसपी को फोन करके बोलिए कि उस बूढ़े की लाश को उठा ले फिर मैंने जवाब दिया कि आपके घर पर भी कदम की दूरी पर यह हादसा हुआ है आप कुछ नौजवान बच्चों को लेकर जाइए और देखिए तो उधर से जवाब आया कि साहब मैं नहीं जा सकता हूं.

google


अगर मैंने ऐसा किया तो मुझ पर मुकदमा हो जाएगा और कोई भी हम को छुड़ाने नहीं आएगा। और अल्लाह की क्या मसलहत थी मुझको नहीं मालूम उसी वक्त मुझे उसी फोन पर बार-बार एक कॉल आ रही थी जब मैंने फोन उठाया तो एक आदमी उधर से बोला असदुद्दीन ओवैसी साहब मैं एक ऑटो ड्राइवर बोल रहा हूं तब मैंने कहा कि बोलो तो उसने कहा कि मैं रोज एक रास्ते से गुजरता हूं और वहां का कॉन्स्टेबल मुझे रोककर चालान कर रहा है.
मैं कहां से लाऊंगा 200 या 300 मैंने कहा जरा ठहरो मैं तुमसे अभी बात करता हूं तो उसने कहा नहीं मुझे अभी तुरंत बात करनी है आप उस कॉन्स्टेबल से बात करके उसे समझाइए उसको अपना पावर दिखाइए मैंने फिर कहा कि भाई जरा रुको तो उसने जवाब दिया कि आप मुझे रुकने को कह रहे हैं हम बार-बार आप को वोट देते हैं मैंने उससे कहा कि तुम अहमद बलाल को कॉल कर लो तो उसने कहा कि नहीं तुम सदर हूं मैं तुमसे ही कहूंगा.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *