सीआईए के रिकॉर्ड में दर्ज है हिटलर का सच, 1955 में ज़िन्दा था जर्मनी का तानाशाह!

1. सीआईए के एक सीक्रेट डॉक्यूमेंट जो अब डीक्लासिफाई कर दिया गया है से पता चला है कि 1955 में जर्मनी के तानाशाह अडोल्फ़ हिटलर के ज़िन्दा होने की सूचना अमरीकियों के हाथ लगी थी. डॉक्यूमेंट के मुताबिक़ हिटलर 1955 में दक्षिणी अमरीका में रह रहा था. इस डॉक्यूमेंट के आख़िर में एक तस्वीर भी है जिसमें अडोल्फ़ हिटलर और उसके साथ में एक और शख्स नज़र आ रहा है. इस फ़ोटो पर 2 जुलाई, 1963 भी लिखा है.

ऐसा माना जाता है कि द्वित्तीय विश्व युद्ध में हार के बाद हिटलर ने 30 अप्रैल, 1945 में आत्महत्या कर ली थी.

2. कोलंबिया के भूतपूर्व FARC विद्रोही रोड्रिगो लोंदोनो ने पोप फ़्रांसिस जो इस वक़्त कोलंबिया के दौरे पर हैं, उनसे युद्ध के लिए माफ़ी मांगी. मार्क्सवादी FARC विद्रोहियों और दक्षिणपंथी सरकारी एजेंसियों के बीच चले संघर्ष में 2 लाख 20 हज़ार से भी अधिक लोग मारे गए थे. जून 2016 में हुए एक शांति समझौते के बाद FARC ने हिंसा का रास्ता छोड़ दिया है. अब FARC ने कोलंबिया में एक राजनीतिक पार्टी का गठन कर लिया है.

3. नोबेल शांति विजेता औंग सन सू ची से नोबेल पुरूस्कार वापिस लिए जाने की मांग को ख़ारिज करते हुए नार्वे के नोबेल संस्थान ने कहा है कि उनसे नोबेल पुरूस्कार वापिस नहीं लिया जा सकता. नोबेल संस्थान के चीफ़ ओलव जोल्सताद ने समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस को ईमेल के ज़रिये बताया कि ना तो पुरस्कार के संस्थापक अल्फ्रेड नोबेल की वसीयत के अनुसार और ना ही नोबेल फाउंडेशन के नियमों के अनुसार प्राप्तकर्ताओं से पुरस्कार वापस लेने का कोई प्रावधान है.

4. रोहिंग्या मुसलमानों की समस्या पर ख़ामोशी इख्तियार कर बैठी हुईं म्यांमार की स्टेट काउंसलर औंग सन सू ची की आलोचना दिन-ब-दिन तेज़ होती जा रही है. नोबेल विजेता सू ची से अब उनका पुरूस्कार वापिस लेने तक की मांग उठने लगी है. इस बीच विरोध के सुर में एक और सुर जोड़ा है 1984 नोबेल शान्ति पुरूस्कार विजेता डेस्मंड टूटू ने. टूटू ने सु ची के रवैये की आलोचना करते हुए उनके नाम एक खुला पत्र लिखा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.