गुजरात: मुख्यमंत्री पर लगा धोखा-धड़ी का आरोप, राहुल बोले- ये है न खाऊंगा, न खाने दूंगा की कहानी

November 9, 2017 by No Comments

गांधीनगर: गुजरात में अगले महीने विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। लेकिन इससे पहले गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी मुश्किल में आ गए हैं।
गुजरात विधानसभा चुनावों से ठीक पहले सेबी ने उनकी कंपनी पर 15 लाख रूपये का जुर्माना लगाया है। उनकी हिंदू अविभाजित परिवार कंपनी पर सारंग केमिकल्स की कंपनी के साथ व्यापार में हेर-फेर का आरोप लगा है। रूपाणी को यह जुर्माना 45 दिनों में भरने के लिए कहा गया है।
नवजीवन इंडिया की खबर के मुताबिक़, रुपानी की कंपनी के अलावा अन्य 22 कंपनियों पर जुर्माना लगा है। जिनमें से एक विजय रूपाणी की कंपनी है। सेबी ने 22 कंपनियों पर कुल 6.9 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है।

सेबी ने जानकारी दी है कि जनवरी से लेकर जून 2011 में रूपाणी की कंपनी ओर से ये हेर-फेर किया गया है। उन्होंने कहा कि जुर्माने की राशि ‘उल्लंघन के अनुरूप’ है। इन 22 नामों में दो शेयर दलाल हैं, जिनके जरिये कारोबार किया गया था।
नोटिस में लिखा गया है कि इन कंपनियों ने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए एक-दूसरे के शेयरों का व्यापार किया। सेबी ने मई 2016 में एक नोटिस जारी किया था। जिसमें उनका कहना है कि ये 22 कंपनियों ने सेबी के एक्ट का उल्लघंन किया है। जब दूसरे निवेशकों ने इस फर्जी कारोबार से आकर्षित होकर इसमें पैसा लगाया तो समूह की कुछ इकाईयों ने बढ़ी हुई कीमतों पर शेयरों की बिक्री शुरू कर दी। इस तरह का कारोबार व्यवहार स्पष्ट रूप से अनुचित उद्देश्य दर्शाता है।

इस मामले में महाप्रबंधक और निर्णायक अधिकारी रचना आनंद ने कहा है कि नोटिस पाने वालों पर उल्लंघन का आरोप साबित हो चुका है और यह गंभीर उल्लंघन है। मैं मानती हूं कि उनमें से पहले से 20वें नंबर तक के निकायों पर सेबी कानून की धारा 15 एचए के अंतर्गत जुर्माना लगना चाहिए।

इस मामले में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर बीजेपी को घेरा है। राहुल ने इस मामले में ट्वीट कर कहा है कि न खाऊंगा, न खाने दूंगा की कहानी, शाह-जादा, शौर्य और अब विजय रूपाणी।
इसके साथ उन्होंने नवजीवन इंडिया की खबर का लिंक भी शेयर किया है। गौरतलब है कि गुजरात विधानसभा चुनाव में राहुल गांधी बीजेपी पर लगतार हमलावर हो रहे हैं। इस वक़्त पर सीएम विजय रुपानी की कंपनी की इस तरह की खबर सामने आना बीजेपी के लिए मुश्किल हो सकता है।

 

 

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *