‘चिकनी-चुपड़ी बातें करके TRS मुसलमानों का वोट ले लेती है, काम कुछ नहीं करती…’

November 11, 2018 by No Comments

नई दिल्ली : कांग्रेस पार्टी के पूर्व विधायक जग्गारेड्डी ने राज्य की टीआरएस सरकार पर आरक्षण के नाम पर मुसलमानों के साथ विश्वासघात करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि अपनी चिकनी-चिपड़ी बातों से लोगों को गुमराह करने वाले केसीआर पर अल्पसंख्यक सहित राज्य के लोग भरोसा करने की स्थिति में नहीं हैं। हाल ही में कांग्रेस के पूर्व विधायक जग्गा रेड्डी के खिलाफ हैदराबाद की मार्केट पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया है। उनर फर्जीवाड़ा, धोखाधडी, मानव तस्करी और पासपोर्ट एक्ट के तहत यह मामला दर्ज किया गया है, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्हें सिकंदराबाद कोर्ट में पेश किया जाएगा। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

बता दे कि जग्गा रेड्डी दावा किया कि राज्यभर के मुसलमान कांग्रेस पार्टी के साथ खड़े होंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि संगारेड्डी के निवर्तमान विधायक चिंता प्रभाकर ने मुसलमानों का अपने राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल किया है। वही मुस्लिम डेवलपमेंट एसोसिएशन के नेताओं ने कहा कि टीआरएस में मुसलमानों के लिए कोई जगह नहीं है और केवल हमें वोट बैंक के लिए इस्तेमाल किया गया है। उधर दूसरी तरफ निजामाबाद की सांसद व टीआरएस की नेता कल्वाकुंटला कविता ने कहा कि 32 देशों की NRI शाखाओं के समन्वय से आगामी तेलंगाना विधानसभा चुनाव में टीआरएस को विजयी बनाने और केसीआर को फिर से मुख्यमंत्री बनाने के लिए एकजुट होकर प्रचार करने की आवश्यकता है।

उन्होंने बताया कि टीआरएस ने चुनाव में अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए एक कार्ययोजना तैयार की है। उन्होंने बताया कि टीआरएस के चुनाव प्रचार में दुनिया के 32 देशों में रह रहे टीआरएस के समर्थक NRI की मदद ली जा रही है। इस मौके पर कविता ने टीआरएस मिशन वेबसाइट trsmission डॉट com का शुभारंभ किया। आपको बता दें के रेड्डी ने अपना राजनीतिक करियर भाजपा के साथ शुरू किया था। इसके बाद वह टीआरएस में शामिल हो गए थे और संगारेड्डी से वर्ष 2004 में विधायक चुने गए थे। टीआरएस सुप्रीमो केसीआर से मनमुटाव की वजह से उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था और 2009 में कांग्रेस में शामिल हो गए थे, इसके बाद वह कांग्रेस के टिकट पर एक बार फिर से 2009 में चुनाव जीत गए थे। तेलंगाना के गठन के बाद प्रदेश में हुए पहले चुनाव में रेड्डी कांग्रेस के टिकट से मैदान में थे, लेकिन वह टीआरएस के उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव हार गए थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *