गुजरात चुनाव से पहले सवालों से बचने के लिए शीतकालीन सत्र में देर कर रही मोदी सरकार..

November 20, 2017 by No Comments

नई दिल्ली: दिल्ली में कांग्रेस कार्य समिति की बैठक को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार और देश के प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोला। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार कमजोर आधार पर संसद के शीतकालीन सत्र में खलल पैदा करने की कोशिश कर रही है।
इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार को जीएसटी के मुद्दे पर भी घेरा। उनका कहना है कि केंद्र सरकार ने नोटबंदी की तर्ज पर जीएसटी को भी बिना सोचे-समझे लागू कर दिया। जबकि केंद्र सरकार अभी इसे लागू करने के लिए पूरी तरह से तैयार नहीं थी। अभी इसमें काफी सारी खामियां हैं। जिस पर काम किया जाना चाहिए था। नोटबंदी के बाद जीएसटी के कारण इन्होने लोगों को परेशानी में डाल दिया है। नोटबंदी से कोई फायदा तो नहीं हुआ है, बल्कि इसने किसानों, छोटे कारोबारियों, घरेलू महिलाओं और दिहाड़ी मजदूरों के जख्मों पर नमक डालने का काम किया है।
संसद की शीतकालीन सत्र परंपरागत रूप से नवंबर के तीसरे हफ्ते में शुरू होकर दिसंबर के तीसरे हफ्ते तक चलता है। लेकिन केंद्र सरकार इसे गुजरात चुनावों के चलते देरी से शुरू करने पर जोर दे रही है। गुजरात चुनाव से पहले सवाल-जवाब से बचने के लिए सरकार ये असामान्य कदम उठाया है। पीएम मोदी आधी-अधूरी तैयारी के साथ जीएसटी को लागू कर के संसद में आधी रात को जश्न मना सकते हैं। लेकिन आज उनमें संसद का सामना करने की हिम्मत नहीं है। इसके साथ सोनिया गाँधी ने कहा कि मोदी सरकार जबरन इतिहास को बदलने की कोशिश कर रही है।

उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार की तरफ से धीरे धीरे नेहरू और इंदिरा के योगदान को मिटाने की कोशिश कर रही है। मोदी सरकार के अहंकार के कारण ही संसदीय लोकतंत्र प्रभावित हुआ है। सोनिया ने कहा कि अगर कोई लोकतंत्र के मंदिर पर ताला लगाने की सोचता है तो यह गलत है। चुनाव से पहले यह संवैधानिक जिम्मेदारी से भागने जैसा है।
इसके साथ गुजरात चुनाव पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी फिर ऐसे एलान कर रही हैं, जिनपर काम नहीं किया जाएगा।
इसके खिलाफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस के कार्यकर्ता जनता में बीजेपी के वादों पर यकीन न करने और मूर्ख न बनने के लिए जागरूकता पैदा कर रहे हैं और उनके झूठ से पर्दा उठाने के लिए काफी मेहनत कर रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *