सऊदी अरब समेत 10 गल्फ देशों में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के इस फैसले का हो रहा विरोध..

December 7, 2017 by No Comments

साल २०१६ में किये वादे को निभाते हुए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने येरूशलम को इजरायल की राजधानी के तौर पर मान्यता दे दी है।

राष्ट्रपति ट्रंप ने ये वादा अपने चुनाव अभियान के दौरान वादा किया था। जिसके चलते ट्रंप ने इसके खिलाफ होने वाले विरोध को नजरअंदाज क रते हुए बुधवार देर रात एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर येरूशलम को इजरायल की राजधानी घोषित कर दिया। इसके साथ ही ट्रंप ने अमेरिकी दूतावास को तेल अवीव से येरूशलम स्थानांतरित करने की प्रक्रिया भी शुरू करने का आदेश दे दिया है।

ट्रंप के इस एलान के बाद अरब देशों में इसके विरोध में प्रदर्शन शुरू हो गए। तुर्की, सीरिया, मिस्र, सऊदी अरब, जाॅर्डन, ईरान समेत 10 गल्फ देशों ने इस पर अमेरिका को चेतावनी दी है।
आशंका जताई जा रही है कि अमेरिका और अरब देशों के बीच तनाव बढ़ सकता है। चीन, रूस, जर्मनी आदि देशों ने कहा कि तनाव बढ़ने से सावधान किया है। इस बीच अमेरिका ने अपने अपने नागरिकों को इजरायल की जाने से बचने की सलाह दी है।

ट्रंप के फैसले की निंदा करते हुए, सऊदी अरब ने इस कदम को अनुचित और गैर जिम्मेदाराना करार दिया है।
सऊदी अरब के शाह सलमान और मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतेह अल-सिसी ने राष्ट्रपति ट्रंप के इस फैसले को लेकर चेतावनी देते हुए इसके एक खतरनाक कदम बताया है। उन्होंने इसपर आगाह करते हुए कहा है कि इससे दुनिया भर में मुस्लिमों की भावनाएं भड़केंगी। वहीं सिसी ने कहा कि इससे स्थिति जटिल हो जाएगी और पश्चिम एशिया में शांति की संभावनाएं खतरे में पड़ जाएंगी। यहाँ राजनयिक संकट के साथ हिंसा की आशंका पैदा हो सकती है।
आपको बता दें की सऊदी अरब के शाह सलमान ने मंगलवार को ट्रंप को आगाह किया था कि अमेरिकी दूतावास को इजराइल के लिए यरुसलम ले जाना एक खतरनाक कदम होगा और इससे दुनिया भर में मुस्लिम नाराज हो सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *