फिर आयी EVM गड़बड़ी की शिकायत-‘मेरा अपना वोट तो मुझे मिलना चाहिए था!’

December 2, 2017 by No Comments

एक तरफ़ जहां भाजपा इस जश्न में डूबी है कि उत्तर प्रदेश नगर निगम चुनाव में उसकी बड़ी जीत हुई है वहीँ एक बार फिर EVM गड़बड़ी का मुद्दा सामने आया है. सहारनपुर के नूरबस्ती से निर्दलीय उमीदवार ने ये दावा किया है कि जिस बूथ पर उसने और उसके परिवार के लोगों ने वोट डाला वहाँ भी उसे 0 वोट मिला है. नूरबस्ती से निर्दलीय उमीदवार शबाना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

चुनाव के दौरान भी कई जगह ये परेशानी आयी थी कि EVM गड़बड़ हो गयी थी और एक जगह तो ऐसा भी वाक़या सामने आया जब वोट डाला गया बसपा को और बिजली भाजपा के सामने वाली जली. इस तरह के मामले आने से चुनाव आयोग की साख लगातार गिर रही है. चुनाव आयोग इन सभी मामलों पर कोई भी ऐसी कार्यवाही करने में नाकाम रहा है जिससे आयोग पर लोगों का भरोसा मज़बूत हो. इसके अलावा इस बार के नगर निगम चुनाव में बड़े स्तर पर वोटर लिस्ट से नाम ग़ायब रहे. कुछ लोगों ने इसको लेकर भी साज़िश की बात कही. लोग ये सवाल कर रहे हैं कि जब विधानसभा और लोकसभा के लिए एक लिस्ट बनायी गयी है तो आख़िर में लोकल चुनाव के लिए अलग से लिस्ट का क्या मतलब.

नतीजे
नतीजों की बात करें तो मेयर की 16 में से 14 सीटें भाजपा जीतने में कामयाब रही है जबकि 2 सीटें बसपा ने हासिल की हैं. हालाँकि जितनी बड़ी ये जीत नज़र आ रही है शायद उतनी नहीं है क्यूंकि नगर पालिका चुनाव में भाजपा को मामूली कामयाबी ही मिली है. नगर पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में सबसे अधिक सीटें निर्दलीय जीते हैं उसके बाद भाजपा फिर सपा. निर्दलीय 182 सीटों पर विजयी रहे हैं जबकि भाजपा-100 और सपा- 82. बसपा ने भी इस चुनाव में कुछ वापसी की है और 45 सीटें जीत कर वापसी की दस्तक दी है. कांग्रेस ने 17 सीटों पर जीत हासिल की.

बात अगर नगर पंचायत सदस्य की करें तो निर्दलीय यहाँ भी बाज़ी मारे हैं. निर्दलीय ने 3860 पर क़ब्ज़ा किया है जबकि सत्ताधारी भाजपा को महज़ 664 सीटें ही हासिल हुई हैं. समाजवादी पार्टी ने 453 सीटें जीती हैं जबकि बसपा 216 पर कामयाब रही. कांग्रेस ने भी 126 सीटों पर जीत हासिल की है. कुल मिलाकर देखा जाए तो ऐसा लगता है कि भाजपा को वैसी कामयाबी नहीं मिल सकी है जैसी उसने उम्मीद की थी. मेयर के चुनाव को छोड़ दिया जाये तो पार्टी का परफॉरमेंस साधारण ही रहा है. भाजपा हालाँकि इसे जीत की तरह दिखा कर गुजरात चुनाव में फ़ायदा उठाने की कोशिश कर सकती है.

बसपा की वापसी
मायावती की बहुजन समाज पार्टी को जहां कुछ लोग ख़त्म मान रहे थे वहीं इस पार्टी ने ज़बरदस्त वापसी की है. मेयर की 2 सीटों पर जीत हासिल करके बसपा ने अच्छी शुरुआत की है. हालाँकि शुरू में वो 5 सीटों पर आगे थी. बसपा के नेता इस जीत से उत्साहित नज़र आ रहे हैं, हालाँकि पार्टी का दावा है कि उन्हें और बेहतर की उम्मीद थी. गौरतलब है कि इस साल हुए विधानसभा चुनाव में सबसे पहले मायावती ने ही EVM गड़बड़ी का मुद्दा उठाया था.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *