देश टूटने से बचाने के लिए स्पेन कर रहा है संघर्ष; केटलोनिआ में आज विवादित “जनमत संग्रह”

स्पेन के उत्तर-पूर्व में स्थित केटलोनिआ में आज “प्रतिबंधित” जनमत संग्रह हो रहा है. इस जनमत संग्रह को स्पेन की सरकार ने अवैध क़रार दिया है और वो इसे रोकने के लिए हर कोशिश कर रही है. ये जनमत संग्रह केटलोनिआ के अलगाववादी नेता करवा रहे हैं.

केटलोनिआ नेताओं का कहना है कि आज़ाद केटलोनिआ की राजधानी बार्सिलोना होगी. अलगाववादी नेताओं ने स्कूलों पर क़ब्ज़ा किया हुआ है, यहीं पर वोटिंग होनी है. ऐसी उम्मीद की जा रही है कि बड़ी संख्या में लोग वोट डालने आयेंगे. पुलिस ने कहा है कि वो सब ख़ाली करा लेंगे. मेड्रिड स्थित केंद्र सरकार ने इस जनमत संग्रह को रोकने की ज़िम्मेदारी दा मोस्सोस द’एस्कुँद्रा को दी है.

बैलेट पेपर के ज़रिये होने वाले इस मतदान में दो ही विकल्प वोटर्स को दिए जायेंगे. इस सवाल के जवाब में कि आप केटलोनिआ को अलग देश बनाना चाहते हैं के लिए दो विकल्प होंगे, एक होगा “यस” और दूसरा “नो”.

रिपोर्ट्स के मुताबिक़ केटलोनिआ को अलग देश बनाए जाने के विरोध में कल देश के कई शहरों में रैली हुई. केटलोनिआ की राजधानी बार्सिलोना में भी इस प्रकार की बड़ी रैली निकाली गयी.

केटलोनिआ की जनसँख्या 74 लाख है जो स्पेन की जनसंख्या का 16 % है. यहाँ के लोगों का अपना इतिहास, अपनी ज़बान, अपनी मान्यताएं हैं. केटलोनिआ समर्थक इसे यूरोप में एक नया देश बनाने की मांग कर रहे हैं जो सरकार के लिए बग़ावत के बराबर है. स्पेन यूरोप का चौथा सबसे बड़ा देश है और अगर स्पेन में कोई राजनीतिक परिवर्तन होता है तो पूरे यूरोप में इसका असर पड़ेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.