टिकट नहीं मिलने से नेता हुए नाराज़, राजस्थान कांग्रेस में हलचल

November 17, 2018 by No Comments

जयपुर: राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के 152 प्रत्याशियों की सूची जारी होने के बाद पार्टी में बवाल मच गया है। जयपुर सहित अन्य जिला मुख्यालयों से लेकर दिल्ली तक बगावत के सुर सुनाई देने लगे हैं। तेज होती बगावत को थामने के लिए कांग्रेस नेतृत्व डैमेज कंट्रोल में जुट गया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राज्य के हालात को लेकर प्रदेश प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे से रिपोर्ट मांगी बताई है। बता दें कि टिकट नहीं मिलने से नाराज कांग्रेस नेत्री व जयपुर की पूर्व मेयर ज्योति खंडेलवाल ने शुक्रवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यसमिति के महासचिव पद से इस्तीफा दे दिया। खंडेलवाल का कहना है कि वह टिकट के लिए पार्टी द्वारा तय सभी कसौटी को पूरा करती हैं। इसके बावजूद सूची में नाम नहीं होने पर, विरोध स्वरूप पीसीसी महासचिव व पीसीसी सदस्य पद से इस्तीफा दे रही हैं।

वही दूसरी तरफ टिकट नहीं मिलने से नाराज प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष बीडी कल्ला के समर्थकों ने शुक्रवार को बीकानेर में पहले सड़कों पर जाम लगाया और फिर रेलवे ट्रैक पर हंगामा किया। इसी प्रकार कोटा जिले में कोटा दक्षिण से टिकट की मांग कर रहे शिवकांत नंदवाना के समर्थकों ने टिकट कटने के विरोध में कांग्रेस कार्यालय में तोडफ़ोड़ की और जमकर उत्पात मचाया। टायर जलाकर प्रदर्शन भी किया। जयपुर के विद्याधर नगर से टिकट की मांग कर रहे विक्रम सिंह के समर्थकों ने भी विरोध दर्ज कराया है। वहीं बस्सी से टिकट नहीं मिलने से लक्ष्मण मीणा के समर्थकों ने दिनभर जयपुर में प्रदेश मुख्यालय पर धरना व विरोध प्रदर्शन किया।

दरअसल कांग्रेस की सूची आने के बाद भाजपा की तर्ज पर कांग्रेस में विरोध प्रदर्शनों का दौर शुरू हो गया है। कई जिलों और उपखण्ड मुख्यालयों पर नेता समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन किए तो उनके समर्थकों ने तोडफ़ोड़ तक कर दी। जयपुर में पूर्व महापौर ने टिकट कटने के विरोध में अपने सभी पदों से इस्तीफे सौंप दिए, तो कई नेताओं ने कांग्रेस से बगावत कर निर्दलीय पर्चे दाखिल करने का एलान कर दिया। विरोध के स्वर देश की राजधानी दिल्ली से जयपुर और राजस्थान के जिले और कस्बों तक पहुंच गया है। बताया जा रहा है कि वरिष्ठ नेता ज्योति खंडेलवाल ने प्रदेश महासचिव के पद से सिर्फ इस्तीफा दिया है। हालांकि उन्होंने पार्टी नहीं छोड़ते हुए एक आम कार्यकर्ता की तरह काम करने और पार्टी के सभी आदेशों का पालन करने की बात कही है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *