राहुल गाँधी के खिलाफ EC ने नोटिस लिया वापिस, कांग्रेस ने इसे क्यों बताया साजिश, पढ़ें पूरा मामला..

December 18, 2017 by No Comments

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को दिया नोटिस चुनाव आयोग ने वापिस ले लिया है। गुजरात के दूसरे चरण का चुनाव प्रचार खत्म होने के बाद राहुल गांधी ने गुजरात के एक न्यूज़ चैनल को इंटरव्यू दिया था। जिसे बीजेपी ने आचार संहिता का उल्लंघन बता चुनाव आयोग को शिकायत की थी।
जिसके बाद चुनाव आयोग ने 13 दिसंबर को उनके खिलाफ नोटिस जारी किया था। आयोग कल शाम कांग्रेस को पत्र भेजा, जिसमे कहा गया है कि राहुल गांधी को दिया गया नोटिस वापिस लिया जा रहा है। आयोग का कहना है कि डिजिटल और इलेक्ट्रानिक्स मीडिया के विस्तार में कई गुना बढ़ोतरी के मद्देनजर 1951 के जनप्रतिनिधि कानून में आदर्श आचार संहिता के आर्टिकल 126 और इससे जुड़े अन्य प्रावधानों की पुन: समीक्षा की जरूरत है।

जिसके तहत चुनाव से 48 घंटे पहले कोई भी राजनीतिक दल या नेता को किसी तरह के प्रचार की इजाज़त नहीं होती। आयोग ने जन प्रतिनिधि कानून 1951 के सेक्शन 126 की समीक्षा के लिये एक कमेटी बना दी है, जो इसपर विचार-विमर्श करेगी, क्यूंकि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और सोशल मीडिया में इस अव्वल दर्जे की सक्रियता आने के बाद इस सेक्शन को देखने की ज़रूरत है।
आयोग ने सूचना औऱ प्रसारण मंत्रालय के साथ-साथ कानून मंत्रालय, आईटी मंत्रालय, प्रेस काउंसिल और एनबीए के सदस्यों की कमेटी बनाकर इस पर रिपोर्ट देने को कहा है ताकि इस कानून के बारे में सोचा जाए कि इसमें किस तरह की बदलाव करने की जरूरत है। चुनाव आयोग के इस फैसले पर कांग्रेस ने सवाल खड़े किये हैं।

इस मामले में कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर ट्वीट कर पूछा है कि अगर चुनाव आयोग ने एक टीवी इंटरव्यू को लेकर राहुल गांधी को दिए नोटिस को वापस ले लिया है तो दो सवाल जरूर पूछे जाने जरूरी हैं। पहला, क्या राहुल गांधी का इंटरव्यू टीवी चैनलों को दिखाने से रोकने के लिए यह महज एक साजिश थी। दूसरा, क्या पीएम मोदी और मंत्रियों के खिलाफ कोई एफआईआर और कार्रवाई न होना सही है?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *