चुनाव आयोग के इस फैसले से भाजपा को लगा तगड़ा झटका,

October 27, 2018 by No Comments

नई दिल्ली: दिल्ली में अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी विधायकों को राहत मिली है. रोगी कल्याण समिति के मामले में आप के 27 विधायकों की सदस्यता पर कोई खतरा नहीं है. चुनाव आयोग ने मामले को खारिज कर दिया है.दरअसल कानून के एक विद्यार्थी विभोर आनंद ने चुनाव आयोग को इस मामले में शिकायत दी थी. शिकायत में आरोप लगाया कि 27 आप विधायक रोगी कल्याण समिति में अध्यक्ष के पद पर होने के नाते लाभ के पद पर हैं. लिहाजा इनकी विधायकी रद्द की जाए.

चुनाव आयोग ने सभी विधायकों के खिलाफ याचिका को खारिज कर दिया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी चुनाव आयोग की इस सिफारिश को मंजूरी दे दी है। आरोपों का सामना कर रहे आप के विधायकों ने चुनाव आयोग से अनुरोध किया था कि वह दिल्ली सरकार के अधिकारियों से जिरह करें। 

आपको बता दें कि रोगी कल्याण समिति एक एनजीओ की तरह काम करता है और ये अस्पताल के प्रबंधन से जुड़ा है।गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी के अन्य 20 विधायकों पर भी संसदीय सचिव का लाभ का पद मामला चल रहा है और इस मामले की सुनवाई भी चुनाव आयोग में ही चल रही है। खास बात यह है की इससे आम आदमी पार्टी के विरोधियों को एक तगड़ा झटका लगा है खास करके केंद्र में शासित भारतीय जनता पार्टी को जिस तरीके से दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार को काम करने के लिए केंद्र की मोदी सरकार एलजी के द्वारा हर काम में रोड़े अटका रही थी यह फैसला आने के बाद एक जोरदार झटका भारतीय जनता पार्टी को लगा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *