एक बार फिर E'VM पर उठा सवाल.. राजस्थान में गाँव के लोगों को हाईवे पर मिली E'VM बैलेट यूनिट

जयपुर: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बाद बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने दावा किया था कि उनकी पार्टी की हार का कारण EV’M में गड़बड़ी है. उनकी इस बात का समर्थन तब कई राजनीतिक दलों ने किया था. अब ख़बर है कि हाल ही में हुए राजस्थान विधानसभा चुनाव में EV’M अनियमितता देखने को मिली है. बारां ज़िले में हाईवे पर बैलेट यूनिट पड़ी हुई मिली है.
आपको बता दें कि ये बैलेट यूनिट गाँव के लोगों को शुक्रवार की रात शाहबाद शहर के पास नज़र आई. इस बात की पुष्टि बाद में अधिकारियों ने की और कहा कि BBAUD41390 नंबर की वह यूनिट अतिरिक्त थी, जिले जिला प्रशासन की निगरानी में जिला वेयरहाउस लाया जा रहा था. इस बारे में एक चुनाव अधिकारी ने टिपण्णी करते हुए कहा,”यह रिजर्व कैटेगरी की बैलेट यूनिट थी, जिसका इस्तेमाल चुनाव में नहीं हुआ. इसे ईवीएम मशीनों के साथ शाहबाद तहसील ऑफिस ले जाया जा रहा था, तभी रास्ते में यह गाड़ी से गिर गई.”

बीजेपी-कांग्रेस

ANI ने इस बारे में चुनाव अधिकारी एसपी सिंह के हवाले से बताया है कि दो चुनाव अधिकारी अब्दुल रफीक और नवल सिंह को लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिया गया. और इस बैलेट यूनिट को जिला मुख्यालय स्थित स्ट्रॉंग रूम में रख दिया गया. हाल में हुए पाँच राज्यों के विधानसभा चुनाव में EV’M को लेकर अनियमितता की ख़बरें मीडिया में आयी थीं.
इस बार हो रहे विधानसभा चुनाव में मध्य प्रदेश में सबसे पहले EV’M अनियमितता की घटना सामने आयी जहां कांग्रेस सांसद विवेक तन्खा ने चुनाव आयोग में शिकायत की थी कि मतदान के दो दिन बाद सागर जिला कलेक्टर ऑफिस में एक बिना रजिस्ट्रेशन वाली स्कूल बस में ईवीएम लाई गई थीं. उन्होंने संभावना जताई कि E’VM से छेड़छाड़ हहो सकती है.
PHOTO SOURCE -INDIA TODAY

आपको बता दें कि राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों पर 7 दिसंबर को वोट डाले गए हैं. तेलंगाना में भी वोटिंग हो चुकी है जबकि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, और मिज़ोरम में 11 दिसम्बर को वोट पड़ेंगे. विपक्ष कई बार E’VM को लेकर संदेह व्यक्त कर चुका है. कई राजनीतिक दल माँग कर रहे हैं कि चुनाव बैलेट पेपर से कराये जाएँ. चुनाव आयोग इस मामले में दावा कर रहा है कि EV’M से कोई छेड़छाड़ मुमकिन नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.