19 साल की लड़की ने बनाई ‘यौन उत्पीड़न’ को बयां करती ये पेंटिंग, सोशल मीडिया पर हुई थी वायरल..

November 23, 2017 by No Comments

19 साल की एक लड़की ने अपनी पेंटिंग के जरिये यौन शोषण की कहानी बयां की है। ये पेंटिंग बनाई है एमा क्रेनज़र नाम की एक आर्टिस्ट ने।
एमा नेब्रास्का वेसलेयन विश्वविद्यालय की छात्रा हैं। एमा ने सेक्शुअल एब्यूज को व्यक्त करती इस पेंटिंग को बनाने के लिए उसने अपने दोस्त की एक तस्वीर ली और उसके बाद उसके शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर अलग-अलग रंग से हाथ की उंगलियां बनाई है।
इस पेंटिंग में एमा ने रंगों को एक लड़की के जीवन में मौजूद उन शख्सों के साथ जोड़ा है। जिनके साथ वह मिलती है और उनके शरीर के किन हिस्सों को कौन शख्स किस तरह से छू रहा है। इसमें एमा ने पीला, लाल, संतरी, काला, नीला, और हरा रंग इस्तेमाल किया है। एमा ने पीला रंग दोस्तों हरा रंग भाई-बहन, काला रंग माँ, नीला रंग पिता, संतरी रंग लवर्स और लाल रंग उनके किये रखा है जिन्हे छूने से मना किया गया।
इस पेंटिंग में एमा ने इन सभी रंग की उंगलियों को शरीर के उन हिस्सों पर लगाया है, जिनपर हमें हमारे माँ-बाप, दोस्त और अन्य लोग छूते हैं।
इसमें पीले रंग को कंधे कोहनी, कमर पर लगाया गया, हरे रंग को कंधे, छाती और टांगों पर, नीले रंग को पेट, बाजू, टांगों पर, संतरी रंग तकरीबन पूरे शरीर के हिस्सों पर लगाया गया। ये सब हमारे करीबी दर्शाएं गए हैं।

जिनको हम खुद को शरीर को कुछ हिस्सों को छूने का अधिकार दे देते हैं क्यूंकि वे हमारे विश्वासपात्र बन जाते हैं। लेकिन इसके साथ लाल रंग भी हैं जो एक शख्स हो सकता है, जिसे आप खुद को छूने की परमिशन नहीं देते। लेकिन वह आपके साथ जबरदस्ती करता है। पेंटिंग में लाल रंग को तकरीबन शरीर के सभी हिस्सों पर लगाया है। यानि कि इसमें आपके प्राइवेट पार्ट्स भी शामिल हैं। लाल रंग को आंतरिक जांघों और योनि पर गहराई से लगाया गया है। जिसका मतलब आप खुद समझ सकते हैं। एमा ने ये पेंटिंग तब पूरी की, जब वह एक दिन वाशिंगटन डीसी में हुए एक वूमेन मार्च से घर लौटी। इसे पूरा करने के बाद उन्होंने इस अपने ट्विटर पर पोस्ट कर दिया। एमा की इस पेंटिंग को काफी सराहना मिली है।
लेकिन इस पेंटिंग के जरिये एमा ने समाज में वह सन्देश देने की कोशिश की है, जिसपर हमें जाने-अनजाने में बात नहीं करते हैं।

PC: Twitter

PC: Twitter

PC: Twitter

PC: Twitter

PC: Twitter

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *