इस्लाम के दुश्मन मिल गए हैं और ईरान में विरोध प्रदर्शन करा रहे हैं: अयातुल्ला ख़मेनी

January 2, 2018 by No Comments

जुमेरात से ही ईरान के अलग-अलग शहरों में सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ प्रोटेस्ट हो रहा है. इस प्रोटेस्ट को ईरान के कुछ नेता अमरीका द्वारा संचालित बता रहे हैं तो कुछ का कहना है कि ये विरोध-प्रदर्शन बढ़ती महंगाई, बेरोज़गारी और भ्रष्टाचार को लेकर है. इस बारे में बयान देते हुए ईरान में हुई इस्लामिक रेवोलुशन के नेता अयातुल्ला सैय्यद अली ख़मेनी ने मंगल के रोज़ कहा कि देश के दुश्मन मिल गए हैं और पैसे और हथियार की मदद से इस्लामिक सिस्टम को नुक़सान पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि मुझे इस (विरोध प्रदर्शन) के बारे में कुछ कहना है और जब सही समय आएगा तो मैं अपने प्रिय देशवासियों से बात करूंगा. ख़मेनी ने इस बारे में साफ़ कहा कि अगर Ba’athist दुश्मन देश पर कोई युद्ध थोपते हैं तो हमारे देश के हालात मौजूदा दौर के सीरिया और लीबिया के हालात से भी ख़राब होंगे. इस प्रोटेस्ट के बारे में बात करते हुए ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने सोमवार के रोज़ कहा कि ये विरोध प्रदर्शन देखने में ख़तरा लगते हैं लेकिन असल में ये मौक़ा है कि हम अपनी परेशानियों को नोटिस करें और उनका हल निकालने की कोशिश करें. रूहानी ने ये बात पार्लियामेंट्री समिति की मीटिंग के दौरान कहा.

देश में टेलीग्राम और इन्स्टाग्राम जैसी सोशल मीडिया एप्प पर अभी सरकार ने पाबंदी लगा दी है. ईरान के इनफ़ार्मेशन और कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी मंत्री मुहम्मद जवाद अज़ारी ने बताया कि सोशल मीडिया पर जो पाबंदी लगायी गयी है वो वक़्ती है. उन्होंने कहा कि इस तरह की अफ़वाहों में कोई सच्चाई नहीं है कि सोशल नेटवर्क को परमानेंट रूप से बंद किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि कुछ सामाजिक मनभेद और निराशा लाना चाहते हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *