एरदोगन ने कर दी संयुक्त राष्ट्र में बड़ी माँग, मुस्लिम सदस्य…

October 4, 2018 by No Comments

तुर्की संसद के अध्यक्ष, बिनाली यिलिरीम ने बुधवार को बड़ा बयान दिया. उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में एक मुस्लिम देश को वीटो पॉवर मिलनी चाहिए. उनका बयान बहुत महतवपूर्ण माना जा रहा है. उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पास स्थायी मुस्लिम सदस्य राज्य होना चाहिए। मिडिल ईस्ट मॉनिटर के मुताबिक,यिलिरीम ने इस्तांबुल में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों की संख्या 194 देशों में है जबकि इस्लामी सहयोग संगठन (OIC) के 57 सदस्य हैं। यिलिरीम ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के चार राज्यों में से एक में मुस्लिम बहुमत है।

यिलिरीम के अनुसार, नए युद्ध के फैलने से रोकने और वैश्विक स्थिरता प्राप्त करने के लिए द्वितीय विश्व युद्ध के बाद सुरक्षा परिषद को पांच स्थायी सदस्यों को वीटो प्रदान किया गया था। लेकिन आज हम देखते हैं कि वीटो अपने उद्देश्यों से दूर हो गया है और युद्ध शुरू करने के लिए एक उपकरण बन गया है।

आपको बता दें कि संयुक्त राष्ट्र महासभा का पाँच परमानेंट सदस्य अपने हिसाब से इस्तेमाल करते रहे हैं. देखा गया है कि कभी कोई ऐसा प्रस्ताव हो जो इजराइल या अमरीका के ख़िलाफ़ हो तो अमरीका उस पर वीटो कर देता है. शीत युद्ध के समय सोवियत रूस ने भी इसका इस्तेमाल किया था.

अमरीका लेकिन लगातार इसे कठपुतली की तरह इस्तेमाल करता रहा है. आपको बता दें कि इससे पहले UN महासभा में रजब तय्यब एर्दोगान ने भी इस बात का ज़िक्र करते हुए UN पर सवाल उठाया था। एर्दोगान ने कहा था की UN में सिर्फ पांच देशों के पास ही पॉवर है जो की सरासर गलत है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *